Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

धुन

धुन

वक्त की धुन सुनती है
अक्सर देर से……
जब चिड़िया चुग लेती है खेत
****
वक्त की धुन थिरकती है
थिरकाती है नेता जनता सबको
वक्त पर नचाती है।
*
वक्त की धुन ने ऐसा हश्र किया
कोई निखर गया
तो कोई बिखर गया
*
वक्त की धुन बहे बयार बन
प्यार और सब्र से सुन
नित नव राह चुन
***
वक्त की धुन निरंतर बदलती है
कभी सुख तो कभी
दुःख में ढलती है
**
वक्त की धुन में बड़ा दमखम
पलट दे बदल दे
जीवन सरगम
**
वक्त की धुन जवां हुंकारी
हंसती पनिहारी
शिशु किलकारी
संगीता बैनीवाल

1 Like · 112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सभी नेतागण आज कल ,
सभी नेतागण आज कल ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हमने माना
हमने माना
SHAMA PARVEEN
"धरती की कोख में"
Dr. Kishan tandon kranti
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
*......इम्तहान बाकी है.....*
*......इम्तहान बाकी है.....*
Naushaba Suriya
वक़्त गुज़रे तो
वक़्त गुज़रे तो
Dr fauzia Naseem shad
धरा और हरियाली
धरा और हरियाली
Buddha Prakash
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
परमात्मा
परमात्मा
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
*उसी को स्वर्ग कहते हैं, जहॉं पर प्यार होता है (मुक्तक )*
*उसी को स्वर्ग कहते हैं, जहॉं पर प्यार होता है (मुक्तक )*
Ravi Prakash
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
"शौर्य"
Lohit Tamta
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
हम भी खामोश होकर तेरा सब्र आजमाएंगे
Keshav kishor Kumar
वसुधा में होगी जब हरियाली।
वसुधा में होगी जब हरियाली।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दूसरों को देते हैं ज्ञान
दूसरों को देते हैं ज्ञान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
-जीना यूं
-जीना यूं
Seema gupta,Alwar
थे कितने ख़ास मेरे,
थे कितने ख़ास मेरे,
Ashwini Jha
दो शरण
दो शरण
*प्रणय प्रभात*
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
"ज्ञान रूपी दीपक"
Yogendra Chaturwedi
2592.पूर्णिका
2592.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हार कभी मिल जाए तो,
हार कभी मिल जाए तो,
Rashmi Sanjay
* करते कपट फरेब *
* करते कपट फरेब *
surenderpal vaidya
तुम्ही बताओ आज सभासद है ये प्रशन महान
तुम्ही बताओ आज सभासद है ये प्रशन महान
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
Arghyadeep Chakraborty
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Santosh kumar Miri
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...