Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2023 · 1 min read

धुंधली यादो के वो सारे दर्द को

धुंधली यादो के वो सारे दर्द को
दिल में एक खास जगह होनी चाहिए ।

हम जिंदा है तो फिर जिंदा
होने की भी तो एक वजह होनी चाहिए ।

‘अशांत’ शेखर
04 Nov 2023

109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हुई नैन की नैन से,
हुई नैन की नैन से,
sushil sarna
"सुहागन की अर्थी"
Ekta chitrangini
बाल कविता: मछली
बाल कविता: मछली
Rajesh Kumar Arjun
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr. Priya Gupta
लम्हे
लम्हे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
नारी....एक सच
नारी....एक सच
Neeraj Agarwal
जीव-जगत आधार...
जीव-जगत आधार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बात क्या है कुछ बताओ।
बात क्या है कुछ बताओ।
सत्य कुमार प्रेमी
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
फ़ितरत नहीं बदलनी थी ।
Buddha Prakash
हमारी आखिरी उम्मीद हम खुद है,
हमारी आखिरी उम्मीद हम खुद है,
शेखर सिंह
🙅परिभाषा🙅
🙅परिभाषा🙅
*प्रणय प्रभात*
2548.पूर्णिका
2548.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
समस्त देशवाशियो को बाबा गुरु घासीदास जी की जन्म जयंती की हार
Ranjeet kumar patre
टिप्पणी
टिप्पणी
Adha Deshwal
क्या हुआ ???
क्या हुआ ???
Shaily
मित्रता
मित्रता
Shashi Mahajan
कविता-
कविता- "हम न तो कभी हमसफ़र थे"
Dr Tabassum Jahan
लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी
लोहा ही नहीं धार भी उधार की उनकी
Dr MusafiR BaithA
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
वृंदा तुलसी पेड़ स्वरूपा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
ख्वाबों से निकल कर कहां जाओगे
VINOD CHAUHAN
* शक्ति स्वरूपा *
* शक्ति स्वरूपा *
surenderpal vaidya
दो जिस्म एक जान
दो जिस्म एक जान
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दीप में कोई ज्योति रखना
दीप में कोई ज्योति रखना
Shweta Soni
हुनर से गद्दारी
हुनर से गद्दारी
भरत कुमार सोलंकी
*जनता को कर नमस्कार, जेलों में जाते नेताजी(हिंदी गजल/ गीतिका
*जनता को कर नमस्कार, जेलों में जाते नेताजी(हिंदी गजल/ गीतिका
Ravi Prakash
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
तू है जगतजननी माँ दुर्गा
gurudeenverma198
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
Taj Mohammad
आप हो न
आप हो न
Dr fauzia Naseem shad
Loading...