Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2016 · 1 min read

धऱती की शोभा ये तो जगतीकापरिथान: जितेन्द्र कमल आनंद (४८)

घनाक्षरी:: ४८

धरती की ळोभा से तो जगकी का परिधान
वृक्ष प्राण- बल ये तो जगत के शोभा- धाम ।
ये अपने लौंदर्य से रिझाते हैं सभी को ही ,
स्वय्ं का जीवन देखो ! इनका प्रिय निष्काम ।
हरे- भरे तरुवर अभिराम लगते बैं ,।
थके- हारे पथिकों को है देते यही विश्राम ।
दाता हैं आनंद के ये ,सम्पत्ति- निधान भी तो ,-
वृक्ष देव को करें हम शत,- शत प्रणाम !!

—– जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
185 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सिर की सफेदी
सिर की सफेदी
Khajan Singh Nain
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
मेरी भौतिकी के प्रति वैज्ञानिक समझ
Ms.Ankit Halke jha
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
देह अधूरी रूह बिन, औ सरिता बिन नीर ।
Arvind trivedi
#चाकलेटडे
#चाकलेटडे
सत्य कुमार प्रेमी
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
"देख मेरा हरियाणा"
Dr Meenu Poonia
मेरे प्रिय कलाम
मेरे प्रिय कलाम
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
डरो नहीं, लड़ो
डरो नहीं, लड़ो
Shekhar Chandra Mitra
*सरकारी नौकरी (हास्य-व्यंग्य)*
*सरकारी नौकरी (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
यही पाँच हैं वावेल (Vowel) प्यारे
Jatashankar Prajapati
काश
काश
हिमांशु Kulshrestha
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हिन्दी के हित
हिन्दी के हित
surenderpal vaidya
समूह
समूह
Neeraj Agarwal
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सब चाहतें हैं तुम्हे...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
श्री राम! मैं तुमको क्या कहूं...?
श्री राम! मैं तुमको क्या कहूं...?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सफलता की जननी त्याग
सफलता की जननी त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जिद कहो या आदत क्या फर्क,
जिद कहो या आदत क्या फर्क,"रत्न"को
गुप्तरत्न
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
2445.पूर्णिका
2445.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ धिक्कार...
■ धिक्कार...
*Author प्रणय प्रभात*
कोई मोहताज
कोई मोहताज
Dr fauzia Naseem shad
होते वो जो हमारे पास ,
होते वो जो हमारे पास ,
श्याम सिंह बिष्ट
मोतियाबिंद
मोतियाबिंद
Surinder blackpen
"माँ"
इंदु वर्मा
नजरअंदाज करने के
नजरअंदाज करने के
Dr Manju Saini
जल बचाओ, ना बहाओ।
जल बचाओ, ना बहाओ।
Buddha Prakash
नशा
नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पत्रकारो द्वारा आज ट्रेन हादसे के फायदे बताये जायेंगें ।
पत्रकारो द्वारा आज ट्रेन हादसे के फायदे बताये जायेंगें ।
Kailash singh
सवाल
सवाल
Manisha Manjari
Loading...