Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

धर्म या धन्धा ?

आजकल इंसान
धर्म में फैले
पाखंड के पीछे
बहुत अंधा है ,
इसीलिए तो
उसे धर्म के नाम पर मूर्ख बनाना
एक अच्छा धंधा है ।
जिन्हें धर्म लगता है
कमाई का ज़रिया
वो अब नई-नई दुकानें
सजा रहे हैं ।
और भगवान का झूठा डर दिखाकर
लोगों को मूर्ख बना रहे है ।
क्या वाक़ई में भगवान, तुम्हारे-
भोजन का भूखा है
या उसे धन की अभिलाषा है ?
नहीं, ये तो ईश्वर को
कठपुतली बनाकर
किया गया महज़ एक तमाशा है ?

— सूर्या

Language: Hindi
1 Like · 34 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
खुद को खोने लगा जब कोई मुझ सा होने लगा।
शिव प्रताप लोधी
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
जहाँ करुणा दया प्रेम
जहाँ करुणा दया प्रेम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हमने उसको देखा, नजरों ने कुछ और देखा,,
हमने उसको देखा, नजरों ने कुछ और देखा,,
SPK Sachin Lodhi
मार्गदर्शन होना भाग्य की बात है
मार्गदर्शन होना भाग्य की बात है
Harminder Kaur
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
VINOD CHAUHAN
"आखिर"
Dr. Kishan tandon kranti
दिनाक़ 03/05/2024
दिनाक़ 03/05/2024
Satyaveer vaishnav
बढ़े चलो ऐ नौजवान
बढ़े चलो ऐ नौजवान
नेताम आर सी
चाँद
चाँद
लक्ष्मी सिंह
जो बीत गया उसे जाने दो
जो बीत गया उसे जाने दो
अनूप अम्बर
सावन सूखा
सावन सूखा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बात मेरी मान लो - कविता
बात मेरी मान लो - कविता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
DrLakshman Jha Parimal
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
मैं पर्वत हूं, फिर से जीत......✍️💥
Shubham Pandey (S P)
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
**गैरों के दिल में भी थोड़ा प्यार देना**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
Mahender Singh
छत्रपति वीर शिवाजी जय हो 【गीत】
छत्रपति वीर शिवाजी जय हो 【गीत】
Ravi Prakash
इश्क़ लिखने पढ़ने में उलझ गया,
इश्क़ लिखने पढ़ने में उलझ गया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बे खुदी में सवाल करते हो
बे खुदी में सवाल करते हो
SHAMA PARVEEN
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
Rj Anand Prajapati
"एहसासों के दामन में तुम्हारी यादों की लाश पड़ी है,
Aman Kumar Holy
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
Sushil Pandey
पानी की तरह प्रेम भी निशुल्क होते हुए भी
पानी की तरह प्रेम भी निशुल्क होते हुए भी
शेखर सिंह
सोने के पिंजरे से कहीं लाख़ बेहतर,
सोने के पिंजरे से कहीं लाख़ बेहतर,
Monika Verma
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*प्रणय प्रभात*
हाथ पसारने का दिन ना आए
हाथ पसारने का दिन ना आए
Paras Nath Jha
आज का श्रवण कुमार
आज का श्रवण कुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
84कोसीय नैमिष परिक्रमा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
3308.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3308.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...