Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

धर्म बनाम धर्मान्ध

धर्म बनाम धर्मान्ध
—————————–‐

धर्म प्रदर्शन कब करता है ,
धर्म स्वयं इक दर्शन है !
अगर प्रदर्शन हुआ धर्म का,
मान इष्ट का मर्दन है !!

धैर्य धर्म की परिभाषा है,
धार्य धर्म की अभिलाषा है!
आज नहीं कल धारण होगा;
निश्चित इस की प्रत्याशा है !!

धर्म जगाये अलख हृदय में ,
धर्म बनाये जगह स्वर्ग में!
टूटे हृदय,धर्म से जुड़ते –
छुपा हुआ है मर्म धर्म में !!

धर्म शर्म की चूनर जैसा,
जो ओढ़े वो सुन्दर दीखे!
मानवता की ढाल धर्म है-
क्या रख्खा है नंगा-पन में !!

भोजन तो तन का रक्षक है,
भजन सदा मन का रक्षक है!
कर्म सदा जीवन रक्षक है –
धर्म समग्र सृष्टि चक्रक है !!

धर्म जहाँ फुटपाथों पर हो,
वहाँ व्यापार निहित होता है !
जहाँ हृदय औ घर भीतर हो –
सच्चा धर्म वही होता है !!
————————————-
मौलिक चिंतन/स्वरूप दिनकर
आगरा/22-01-2024
————————————–

मौलिक-चिंतन/स्वरूप दिनकर
आखरा

1 Like · 1 Comment · 80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
नींव की ईंट
नींव की ईंट
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
साहसी बच्चे
साहसी बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राम राम राम
राम राम राम
Satyaveer vaishnav
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
आग लगाना सीखिए ,
आग लगाना सीखिए ,
manisha
नवम दिवस सिद्धिधात्री,
नवम दिवस सिद्धिधात्री,
Neelam Sharma
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
gurudeenverma198
💐अज्ञात के प्रति-131💐
💐अज्ञात के प्रति-131💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
Jay Dewangan
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
नीचे तबके का मनुष्य , जागरूक , शिक्षित एवं सबसे महत्वपूर्ण ब
Raju Gajbhiye
वो काल है - कपाल है,
वो काल है - कपाल है,
manjula chauhan
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
अनपढ़ दिखे समाज, बोलिए क्या स्वतंत्र हम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इस मोड़ पर
इस मोड़ पर
Punam Pande
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हुनर हर जिंदगी का आपने हमको सिखा दिया।
हुनर हर जिंदगी का आपने हमको सिखा दिया।
Phool gufran
दिल के टुकड़े
दिल के टुकड़े
Surinder blackpen
युग बीते और आज भी ,
युग बीते और आज भी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
चुप रहना भी तो एक हल है।
चुप रहना भी तो एक हल है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
किताबे पढ़िए!!
किताबे पढ़िए!!
पूर्वार्थ
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पिता
पिता
विजय कुमार अग्रवाल
कभी किसी को इतनी अहमियत ना दो।
कभी किसी को इतनी अहमियत ना दो।
Annu Gurjar
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
करती पुकार वसुंधरा.....
करती पुकार वसुंधरा.....
Kavita Chouhan
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
फूल खिलते जा रहे हैं हो गयी है भोर।
surenderpal vaidya
*मूलत: आध्यात्मिक व्यक्तित्व श्री जितेंद्र कमल आनंद जी*
*मूलत: आध्यात्मिक व्यक्तित्व श्री जितेंद्र कमल आनंद जी*
Ravi Prakash
Loading...