Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Dec 2023 · 1 min read

धर्म निरपेक्षता

हमारे दिल में यह ख्याल आता है
जो भीतर तक कचोट सा जाता है ।

रोजगार ,शिक्षा दीक्षा का हक,
देश में रहने का सभी को जाता है ।

अपनी जीवन शैली के अनुसार रहने ,
रीति रिवाज मानने का हक जाता है।

मगर धर्म निरपेक्षता का कर्तव्य ,
सिर्फ हिंदू लोगों पर क्यों जाता है ?

क्यों मुस्लिम / ईसाई संप्रदाय,
होली और दिवाली नहीं मनाता है ।

क्यों हिंदू ही खुले दिल से और, क्रिसमस उल्लास से मनाता है।

क्या धर्म निरपेक्षता का जिम्मा
सिर्फ हिंदुओं ने ले रखा है !
जबकि इस देश को जोड़ने का सभी का कर्तव्य बनता है।

Language: Hindi
2 Likes · 231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
2696.*पूर्णिका*
2696.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#आज_का_शेर-
#आज_का_शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
मानक लाल मनु
उसे मलाल न हो
उसे मलाल न हो
Dr fauzia Naseem shad
तेवरीः तेवरी है, ग़ज़ल नहीं +रमेशराज
तेवरीः तेवरी है, ग़ज़ल नहीं +रमेशराज
कवि रमेशराज
कल्पनाओं की कलम उठे तो, कहानियां स्वयं को रचवातीं हैं।
कल्पनाओं की कलम उठे तो, कहानियां स्वयं को रचवातीं हैं।
Manisha Manjari
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
तेरे शब्दों के हर गूंज से, जीवन ख़ुशबू देता है…
Anand Kumar
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
बचपन के वो दिन कितने सुहाने लगते है
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
किसी भी व्यक्ति के अंदर वैसे ही प्रतिभाओं का जन्म होता है जै
Rj Anand Prajapati
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
आओ तो सही,भले ही दिल तोड कर चले जाना
Ram Krishan Rastogi
भारत के बच्चे
भारत के बच्चे
Rajesh Tiwari
जरूरत के हिसाब से ही
जरूरत के हिसाब से ही
Dr Manju Saini
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
Arvind trivedi
बाजारवाद
बाजारवाद
Punam Pande
अहसास
अहसास
Dr Parveen Thakur
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
जनाजे में तो हम शामिल हो गए पर उनके पदचिन्हों पर ना चलके अपन
DrLakshman Jha Parimal
फितरत की बातें
फितरत की बातें
Mahendra Narayan
खामोश कर्म
खामोश कर्म
Sandeep Pande
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भौतिक युग की सम्पदा,
भौतिक युग की सम्पदा,
sushil sarna
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
जिंदगी में.....
जिंदगी में.....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
युवा दिवस विवेकानंद जयंती
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
संगीत
संगीत
Vedha Singh
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
कृष्णकांत गुर्जर
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम
तुम
Er. Sanjay Shrivastava
माँ
माँ
Arvina
गिरता है गुलमोहर ख्वाबों में
गिरता है गुलमोहर ख्वाबों में
शेखर सिंह
Loading...