Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2022 · 1 min read

धर्मांध भीड़ के ख़तरे

हमसे बहुत पहले ही
अंबेडकर कह चुके हैं वह!
हमसे बहुत पहले ही
पेरियार कह चुके हैं वह!
तुम लोग जिसके लिए
आज ट्रोल कर रहे हो हमें!
हमसे बहुत पहले ही
ओशो कह चुके हैं वह!
#isupportvikashdivyakirtisir
#isupportDrishtilAs #Truth
#FreedomOfSpeech #शिक्षक
#Valmiki #Ramayan #धर्मांध

Language: Hindi
1 Like · 174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बहू-बेटी
बहू-बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#अजब_गज़ब
#अजब_गज़ब
*Author प्रणय प्रभात*
नव उल्लास होरी में.....!
नव उल्लास होरी में.....!
Awadhesh Kumar Singh
*तू एक फूल-सा*
*तू एक फूल-सा*
Sunanda Chaudhary
तेरी याद
तेरी याद
Shyam Sundar Subramanian
"जागरण"
Dr. Kishan tandon kranti
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
हममें आ जायेंगी बंदिशे
हममें आ जायेंगी बंदिशे
Pratibha Pandey
ঐটা সত্য
ঐটা সত্য
Otteri Selvakumar
कविता
कविता
Shyam Pandey
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
There is nothing wrong with slowness. All around you in natu
पूर्वार्थ
बस यूं ही
बस यूं ही
MSW Sunil SainiCENA
3028.*पूर्णिका*
3028.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
मैं भविष्य की चिंता में अपना वर्तमान नष्ट नहीं करता क्योंकि
Rj Anand Prajapati
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
बन के आंसू
बन के आंसू
Dr fauzia Naseem shad
💐प्रेम कौतुक-181💐
💐प्रेम कौतुक-181💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
Er. Sanjay Shrivastava
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
कौन उठाये मेरी नाकामयाबी का जिम्मा..!!
Ravi Betulwala
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
अनिल कुमार
कजरी (वर्षा-गीत)
कजरी (वर्षा-गीत)
Shekhar Chandra Mitra
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
मेरे सब्र की इंतहां न ले !
ओसमणी साहू 'ओश'
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
Dr Archana Gupta
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
साहित्य गौरव
ना दे खलल अब मेरी जिंदगी में
ना दे खलल अब मेरी जिंदगी में
श्याम सिंह बिष्ट
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
VEDANTA PATEL
आज, पापा की याद आई
आज, पापा की याद आई
Rajni kapoor
बेबसी (शक्ति छन्द)
बेबसी (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
"समय क़िस्मत कभी भगवान को तुम दोष मत देना
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...