Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

धरा स्वर्ण होइ जाय

नीली छतरी वाला
नीली छतरीवाला करता
है सभी की रक्षा
हाँ बीच बीच में बेशक ही
लेता वह सबकी परीक्षा

होना नहीं निराश तुम
ना समझे मकरंद
परखा हीरा जाय नहीं
कभी कबाड़ी संग।

करता अभय सभी को
नीली छतरी वाला
डरो नहीं तू कभि किसी से
उसका खेल निराला।

खुद को तराशों इस कदर
जैसे खिला पलाश
पाने वाला खुश रहे
खोनेवाला निराश।

अन्धकार को समझा क्या
बस है प्रकाश का लोप
अंत है जीवन का बस सुंदर
इक पावन सा मोक्ष।

बल से बड़ी विनम्रता
क्षमा बड़ा है तर्क से
लुप्त होत सदग्रंध सब
अनायास ही कुतर्क से।

सब कुछ सुंदर छवि नहीं
है सादगी इक रत्न
जलकुम्भी से भरा सरोवर
इक उपवन का भ्रम।

केवल क्षमा विकल्प नहीं
जो दिया भयंकर वार
निकली कील दीवाल से
छिद्र चिढ़ाता धा।

संगत की महिमा बड़ी
होत होत बड़ काज
निर्मेश सूर्य की रोशनी
धरा स्वर्ण होइ जाय।

46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"दीवारें"
Dr. Kishan tandon kranti
2498.पूर्णिका
2498.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सम्मान गुरु का कीजिए
सम्मान गुरु का कीजिए
Harminder Kaur
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / मुसाफ़िर बैठा
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
खुशी ( Happiness)
खुशी ( Happiness)
Ashu Sharma
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
Arghyadeep Chakraborty
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
Vivek Mishra
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
Rj Anand Prajapati
ग़र कुंदन जैसी चमक चाहते हो पाना,
ग़र कुंदन जैसी चमक चाहते हो पाना,
SURYA PRAKASH SHARMA
* चली रे चली *
* चली रे चली *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ख़ाक हुए अरमान सभी,
ख़ाक हुए अरमान सभी,
Arvind trivedi
💐प्रेम कौतुक-544💐
💐प्रेम कौतुक-544💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
जब ये मेहसूस हो, दुख समझने वाला कोई है, दुख का भर  स्वत कम ह
जब ये मेहसूस हो, दुख समझने वाला कोई है, दुख का भर स्वत कम ह
पूर्वार्थ
इक शाम दे दो. . . .
इक शाम दे दो. . . .
sushil sarna
मन
मन
SATPAL CHAUHAN
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
ସେହି ଫୁଲ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
अरमान
अरमान
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बोले सब सर्दी पड़ी (हास्य कुंडलिया)
बोले सब सर्दी पड़ी (हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
प्यारी बहना
प्यारी बहना
Astuti Kumari
एक श्वान की व्यथा
एक श्वान की व्यथा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दुआ सलाम
दुआ सलाम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कहा किसी ने
कहा किसी ने
Surinder blackpen
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
आओ मिलकर हंसी खुशी संग जीवन शुरुआत करे
कृष्णकांत गुर्जर
सीमा प्रहरी
सीमा प्रहरी
लक्ष्मी सिंह
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
जीवनसंगिनी सी साथी ( शीर्षक)
AMRESH KUMAR VERMA
■ आज का शेर-
■ आज का शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
Arti Bhadauria
Loading...