Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

“धरती का श्रृंगार “

आज नवरूप धरा है मैनें,
पंखुरी-पंखुरी सजाया मैनें,
अलग रंग अलग रूप देखो ,
धानी-धानी सी चुनर हुई है ,
सोंधी-सोंधी सी खुशबू समेटे,
सोलह श्रृंगार कर नव वधू सी,
मन-तरंग में स्वप्न सजो कर ,
चली मैं किस ओर तो देखो,
छम छम सी पायल बोले,
और छन छन सी कंगन,
मुझको छूकर पवन भी मचले,
लजाकर , लो नयन बचाकर,
आज मैं पी के नगर चली||
…निधि…

186 Views
You may also like:
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
आतुरता
अंजनीत निज्जर
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...