Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Aug 2016 · 1 min read

“धरती का श्रृंगार “

आज नवरूप धरा है मैनें,
पंखुरी-पंखुरी सजाया मैनें,
अलग रंग अलग रूप देखो ,
धानी-धानी सी चुनर हुई है ,
सोंधी-सोंधी सी खुशबू समेटे,
सोलह श्रृंगार कर नव वधू सी,
मन-तरंग में स्वप्न सजो कर ,
चली मैं किस ओर तो देखो,
छम छम सी पायल बोले,
और छन छन सी कंगन,
मुझको छूकर पवन भी मचले,
लजाकर , लो नयन बचाकर,
आज मैं पी के नगर चली||
…निधि…

Language: Hindi
270 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डा0 निधि श्रीवास्तव "सरोद"
View all
You may also like:
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
है कौन झांक रहा खिड़की की ओट से
Amit Pathak
■ मुक्तक और कटाक्ष...
■ मुक्तक और कटाक्ष...
*Author प्रणय प्रभात*
दिल की बातें....
दिल की बातें....
Kavita Chouhan
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
Shyam Sundar Subramanian
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
साक्षात्कार-पीयूष गोयल(दर्पण छवि लेखक).
Piyush Goel
हृद्-कामना....
हृद्-कामना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
वो नए सफर, वो अनजान मुलाकात- इंटरनेट लव
वो नए सफर, वो अनजान मुलाकात- इंटरनेट लव
कुमार
ਪਰਹੇਜ਼ ਕਰਨਾ ਸੀ
ਪਰਹੇਜ਼ ਕਰਨਾ ਸੀ
Surinder blackpen
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
Satyaveer vaishnav
*लस्सी में जो है मजा, लस्सी में जो बात (कुंडलिया)*
*लस्सी में जो है मजा, लस्सी में जो बात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"नींद की तलाश"
Pushpraj Anant
शिव  से   ही   है  सृष्टि
शिव से ही है सृष्टि
Paras Nath Jha
"बदलाव"
Dr. Kishan tandon kranti
गाँव का दृश्य (गीत)
गाँव का दृश्य (गीत)
प्रीतम श्रावस्तवी
दो शे'र ( अशआर)
दो शे'र ( अशआर)
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
💐अज्ञात के प्रति-126💐
💐अज्ञात के प्रति-126💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कंटक जीवन पथ के राही
कंटक जीवन पथ के राही
AJAY AMITABH SUMAN
प्रेम का गीत ही, हर जुबान पर गाया जाए
प्रेम का गीत ही, हर जुबान पर गाया जाए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ह्रदय
ह्रदय
Monika Verma
खिलते फूल
खिलते फूल
Punam Pande
असतो मा सद्गमय
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
*क्या हुआ आसमान नहीं है*
*क्या हुआ आसमान नहीं है*
Naushaba Suriya
अंध विश्वास - मानवता शर्मसार
अंध विश्वास - मानवता शर्मसार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रात उसको अब अकेले खल रही होगी
रात उसको अब अकेले खल रही होगी
Dr. Pratibha Mahi
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
DrLakshman Jha Parimal
टूटी हुई कलम को
टूटी हुई कलम को
Anil chobisa
अब नहीं पाना तुम्हें
अब नहीं पाना तुम्हें
Saraswati Bajpai
इतना घुमाया मुझे
इतना घुमाया मुझे
कवि दीपक बवेजा
Loading...