Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

धन

धन की खातिर आदमी, करता क्या क्या काम।
श्रम बिन धन कहुँ कब मिले, कैसे हो आराम।।

कैसे हो आराम, बड़ी है आपाधापी।
धन ने जग में यार, बनाये हैं कुछ पापी।।

कह विवेक कविराय, भला बैठूं किस आसन।
नही चैन आराम, कमाऊं कैसे मै धन।

विवेक प्रजापति ‘विवेक’

2 Comments · 503 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
करगिल के वीर
करगिल के वीर
Shaily
"अकेले रहना"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
शेखर सिंह
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
The_dk_poetry
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
🥀✍*अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*मैं और मेरी चाय*
*मैं और मेरी चाय*
sudhir kumar
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नन्हीं बाल-कविताएँ
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-150 से चुने हुए श्रेष्ठ 11 दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-150 से चुने हुए श्रेष्ठ 11 दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#यादें_बाक़ी
#यादें_बाक़ी
*प्रणय प्रभात*
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
।।अथ श्री सत्यनारायण कथा चतुर्थ अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आपके आसपास
आपके आसपास
Dr.Rashmi Mishra
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
फलक भी रो रहा है ज़मीं की पुकार से
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
मजबूरन पैसे के खातिर तन यौवन बिकते देखा।
सत्य कुमार प्रेमी
फांसी का फंदा भी कम ना था,
फांसी का फंदा भी कम ना था,
Rahul Singh
फिर एक पल भी ना लगा ये सोचने में........
फिर एक पल भी ना लगा ये सोचने में........
shabina. Naaz
संचित सब छूटा यहाँ,
संचित सब छूटा यहाँ,
sushil sarna
" नयन अभिराम आये हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
प्रथम पूज्य श्रीगणेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
धर्म ज्योतिष वास्तु अंतराष्ट्रीय सम्मेलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
याद तुम्हारी......।
याद तुम्हारी......।
Awadhesh Kumar Singh
कार्य महान
कार्य महान
surenderpal vaidya
2367.पूर्णिका
2367.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*शिक्षक*
*शिक्षक*
Dushyant Kumar
यह रंगीन मतलबी दुनियां
यह रंगीन मतलबी दुनियां
कार्तिक नितिन शर्मा
संबंधों के नाम बता दूँ
संबंधों के नाम बता दूँ
Suryakant Dwivedi
सत्यम शिवम सुंदरम🙏
सत्यम शिवम सुंदरम🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Sonam Puneet Dubey
यही जिंदगी
यही जिंदगी
Neeraj Agarwal
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
Karishma Shah
Loading...