Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2022 · 1 min read

*धनिक को देखिए धन के नशे में चूर रहते हैं (मुक्तक)*

धनिक को देखिए धन के नशे में चूर रहते हैं (मुक्तक)
________________________________
धनिक को देखिए धन के नशे में चूर रहते हैं
हमेशा श्रेष्ठता झूठी में यह भरपूर रहते हैं
तिजोरी को समझते हैं असल में आदमी बस यह
गरीबों की सदा परछाई से भी दूर रहते हैं
———————————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

Language: Hindi
248 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मंत्र चंद्रहासोज्जलकारा, शार्दुल वरवाहना ।कात्यायनी शुंभदघां
मंत्र चंद्रहासोज्जलकारा, शार्दुल वरवाहना ।कात्यायनी शुंभदघां
Harminder Kaur
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
Mohan Pandey
******शिव******
******शिव******
Kavita Chouhan
“गुरु और शिष्य”
“गुरु और शिष्य”
DrLakshman Jha Parimal
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
Priya princess panwar
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
दुनियां कहे , कहे कहने दो !
दुनियां कहे , कहे कहने दो !
Ramswaroop Dinkar
#गहिरो_संदेश (#नेपाली_लघुकथा)
#गहिरो_संदेश (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
I find solace in silence, though it's accompanied by sadness
I find solace in silence, though it's accompanied by sadness
पूर्वार्थ
2313.
2313.
Dr.Khedu Bharti
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
कवि रमेशराज
*होली*
*होली*
Dr. Priya Gupta
मार मुदई के रे
मार मुदई के रे
जय लगन कुमार हैप्पी
फकीरी/दीवानों की हस्ती
फकीरी/दीवानों की हस्ती
लक्ष्मी सिंह
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
*नए दौर में पत्नी बोली, बनें फ्लैट सुखधाम【हिंदी गजल/ गीतिका】
*नए दौर में पत्नी बोली, बनें फ्लैट सुखधाम【हिंदी गजल/ गीतिका】
Ravi Prakash
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
तुझको को खो कर मैंने खुद को पा लिया है।
Vishvendra arya
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌸दे मुझे शक्ति🌸
🌸दे मुझे शक्ति🌸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
आईना
आईना
Sûrëkhâ
आ बैठ मेरे पास मन
आ बैठ मेरे पास मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
■ समझदारों के लिए संकेत बहुत होता है। बशर्ते आप सच में समझदा
■ समझदारों के लिए संकेत बहुत होता है। बशर्ते आप सच में समझदा
*Author प्रणय प्रभात*
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
कीमतों ने छुआ आसमान
कीमतों ने छुआ आसमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
साक्षर महिला
साक्षर महिला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...