Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2023 · 1 min read

*धनतेरस का त्यौहार*

धनतेरस का त्यौहार

युगो युगो से चला आया
दीपावली का त्यौहार
पौराणिक कथाएं
तुम्हें सुनाए सबका
करके विस्तार।
सतयुग की कथा सुनो
देवता और दानव ने मिलकर
किया समुद्र मंथन का ऐलान
एरावत से रंभा तक
14 रत्नौ के साथ
हलाहल विष भी निकाला
अमृत घट के साथ
प्रकट हुए धन्वन्तरि
कार्तिक पक्ष की त्रयोदशी
महामंथन से जन्मी
देवी महालक्ष्मी
छाया हर्षोउल्लास
उनके स्वागत में प्रथम बार
उत्सव कर मनाया गया
दीपावली का त्यौहार।
जिसको कहते धनतेरस
उसमें होता लक्ष्मी का वास ।

हरमिंदर कौर, अमरोहा

2 Likes · 168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दीदी
दीदी
Madhavi Srivastava
"आज की रात "
Pushpraj Anant
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
DrLakshman Jha Parimal
*सभी ने सत्य यह माना, सभी को एक दिन जाना ((हिंदी गजल/ गीतिका
*सभी ने सत्य यह माना, सभी को एक दिन जाना ((हिंदी गजल/ गीतिका
Ravi Prakash
उनका शौक़ हैं मोहब्बत के अल्फ़ाज़ पढ़ना !
उनका शौक़ हैं मोहब्बत के अल्फ़ाज़ पढ़ना !
शेखर सिंह
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
बुद्धिमान हर बात पर,
बुद्धिमान हर बात पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुद्दा मंदिर का
मुद्दा मंदिर का
जय लगन कुमार हैप्पी
मिलती है मंजिले उनको जिनके इरादो में दम होता है .
मिलती है मंजिले उनको जिनके इरादो में दम होता है .
Sumer sinh
सुन मेरे बच्चे
सुन मेरे बच्चे
Sangeeta Beniwal
प्रेम के मायने
प्रेम के मायने
Awadhesh Singh
3231.*पूर्णिका*
3231.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
धिक्कार है धिक्कार है ...
धिक्कार है धिक्कार है ...
आर एस आघात
लौट कर रास्ते भी
लौट कर रास्ते भी
Dr fauzia Naseem shad
..........लहजा........
..........लहजा........
Naushaba Suriya
दुख
दुख
Rekha Drolia
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कूच-ए-इश्क़ में मुहब्बत की कलियां बिखराते रहना,
कूच-ए-इश्क़ में मुहब्बत की कलियां बिखराते रहना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वो ज़िद्दी था बहुत,
वो ज़िद्दी था बहुत,
पूर्वार्थ
ज़ेहन से
ज़ेहन से
हिमांशु Kulshrestha
नियति
नियति
surenderpal vaidya
ईश्वर है
ईश्वर है
साहिल
अधूरी दास्तान
अधूरी दास्तान
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
नव दीप जला लो
नव दीप जला लो
Mukesh Kumar Sonkar
"" *माँ की ममता* ""
सुनीलानंद महंत
बसंत
बसंत
manjula chauhan
खुशी की खुशी
खुशी की खुशी
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---2. [ काव्य की नूतन विधा तेवरी में विरोधरस ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
Loading...