Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

द्रौपदी चीर हरण

हे भीष्म पितामह गुरु द्रोण, माता कुन्ती के लाल सुनो
हे श्याम सुनो हे राम सुनो, ताण्डव वाले महाकाल सुनो।
निज पुत्रवधू को देख देख, पर करुणा जाग नही पाई,
धिक्कार तुम्हे हे धर्मपुत्र, मानवता याद नही आई।।
जो भरतवंश के रक्षक थे, थे श्रेष्ठ गुणी संसार के,
निज पत्नी दाँव लगा डाली, चौसर खेलों में हार के।
जो त्याग तपस्या मूरत थे, वो भीष्म पितामह आज कहाँ,
जो पाठ पढ़ाते रक्षा का, वो गुरु द्रोण महाराज कहाँ।
दुशासन केश पकड़ लाया, निर्वस्त्र किया दरबारों में,
हाथों पर हाथ धरे सबने, बोले ना कुछ अधिकारों में।
धर्मो की रक्षा प्रजापिता, सिंहासन बोल नहीं पाया,
दुशासन चीर उतारे पर, शोणित भी खोल नहीं पाया।
क्या गांडीव टूट गया स्वामी, अंबर-सी वो झंकार कहाँ,
जो पर्वत चूर चूर कर दे, हे आर्य वही टंकार कहाँ।
फिर आस लगाई कान्हा से, और ध्यान किया घनश्याम का,
बोली अब कर्ज चुका डालो, शोणित से भरे निशान का।
जो चोट लगी उँगली पर तो, साड़ी को चीर दिया मैंने,
पीड़ा भी तुझको थी किन्तु, आँखों का नीर दिया मैंने।
सुन करुण वेदना नारी की, आँखे नम थी भगवान की,
मेरे संग बोल उठो सारे, जय हो जय करुणनिधान की।
थक गया खींचते हार गया, साड़ी खोल नहीं पाया,
बेहोश गिरा वो भूमि पर, और कुछ भी बोल नहीं पाया।
माँ पांचाली और कान्हा ने, रच डाला नए निधान को,
यूं लाज बचाई नारी की, लौटाया स्वाभिमान को

रवि यादव, कवि
कोटा, राजस्थान
9571796024

3 Likes · 1 Comment · 124 Views
You may also like:
✍️आदमी ने बनाये है फ़ासले…
'अशांत' शेखर
भाव अंजुरि (मैथिली गीत)
मनोज कर्ण
ऐसे काम काय करत हो
मानक लाल"मनु"
✴️✳️हर्ज़ नहीं है मुख़्तसर मुलाकात पर✳️✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहानी *”ममता”* पार्ट-1 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
पत्थर दिखता है . (ग़ज़ल)
Mahendra Narayan
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
*महान आध्यात्मिक विभूति मौलाना यूसुफ इस्लाही से दो मुलाकातें*
Ravi Prakash
"आधुनिकता का परछावा"
MSW Sunil SainiCENA
जीने का हुनर आता
Anamika Singh
💐 मेरी तलाश💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गज़ल
Krishna Tripathi
मैं समझता हूँ तुमको अपना
gurudeenverma198
■ आज की बात
*प्रणय प्रभात*
आत्मविश्वास
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
Advice
Shyam Sundar Subramanian
प्रणय निवेदन
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
Re: !! तेरी ये आंखें !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
प्रिय अटल जी
विजय कुमार 'विजय'
हीरा बा
मृत्युंजय कुमार
जिंदगी एक बार
Vikas Sharma'Shivaaya'
वैलेंटाइन डे युवाओं का एक दिवालियापन
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
अश्रुपात्र A glass of years भाग 6 और 7
Dr. Meenakshi Sharma
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
पैसों से नेकियाँ बनाता है।
Taj Mohammad
चेतावनी
Shekhar Chandra Mitra
आब दाना
Satish Srijan
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
वन्दना
पं.आशीष अविरल चतुर्वेदी
Loading...