Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

द्रौपदी चीर हरण

हे भीष्म पितामह गुरु द्रोण, माता कुन्ती के लाल सुनो
हे श्याम सुनो हे राम सुनो, ताण्डव वाले महाकाल सुनो।
निज पुत्रवधू को देख देख, पर करुणा जाग नही पाई,
धिक्कार तुम्हे हे धर्मपुत्र, मानवता याद नही आई।।
जो भरतवंश के रक्षक थे, थे श्रेष्ठ गुणी संसार के,
निज पत्नी दाँव लगा डाली, चौसर खेलों में हार के।
जो त्याग तपस्या मूरत थे, वो भीष्म पितामह आज कहाँ,
जो पाठ पढ़ाते रक्षा का, वो गुरु द्रोण महाराज कहाँ।
दुशासन केश पकड़ लाया, निर्वस्त्र किया दरबारों में,
हाथों पर हाथ धरे सबने, बोले ना कुछ अधिकारों में।
धर्मो की रक्षा प्रजापिता, सिंहासन बोल नहीं पाया,
दुशासन चीर उतारे पर, शोणित भी खोल नहीं पाया।
क्या गांडीव टूट गया स्वामी, अंबर-सी वो झंकार कहाँ,
जो पर्वत चूर चूर कर दे, हे आर्य वही टंकार कहाँ।
फिर आस लगाई कान्हा से, और ध्यान किया घनश्याम का,
बोली अब कर्ज चुका डालो, शोणित से भरे निशान का।
जो चोट लगी उँगली पर तो, साड़ी को चीर दिया मैंने,
पीड़ा भी तुझको थी किन्तु, आँखों का नीर दिया मैंने।
सुन करुण वेदना नारी की, आँखे नम थी भगवान की,
मेरे संग बोल उठो सारे, जय हो जय करुणनिधान की।
थक गया खींचते हार गया, साड़ी खोल नहीं पाया,
बेहोश गिरा वो भूमि पर, और कुछ भी बोल नहीं पाया।
माँ पांचाली और कान्हा ने, रच डाला नए निधान को,
यूं लाज बचाई नारी की, लौटाया स्वाभिमान को

रवि यादव, कवि
कोटा, राजस्थान
9571796024

3 Likes · 1 Comment · 1308 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं हु दीवाना तेरा
मैं हु दीवाना तेरा
Basant Bhagawan Roy
राह हमारे विद्यालय की
राह हमारे विद्यालय की
bhandari lokesh
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
नजरअंदाज करने के
नजरअंदाज करने के
Dr Manju Saini
अक्सर आकर दस्तक देती
अक्सर आकर दस्तक देती
Satish Srijan
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
समय के पहिए पर कुछ नए आयाम छोड़ते है,
manjula chauhan
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
किसी भी चीज़ की आशा में गवाँ मत आज को देना
किसी भी चीज़ की आशा में गवाँ मत आज को देना
आर.एस. 'प्रीतम'
सुई नोक भुइ देहुँ ना, को पँचगाँव कहाय,
सुई नोक भुइ देहुँ ना, को पँचगाँव कहाय,
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
■ नई महाभारत..
■ नई महाभारत..
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Fuzail Sardhanvi
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
निदामत का एक आँसू ......
निदामत का एक आँसू ......
shabina. Naaz
ଆପଣ କିଏ??
ଆପଣ କିଏ??
Otteri Selvakumar
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
गज़ल (इंसानियत)
गज़ल (इंसानियत)
umesh mehra
आज का अभिमन्यु
आज का अभिमन्यु
विजय कुमार अग्रवाल
*होटल राजमहल हुए, महाराज सब आम (कुंडलिया)*
*होटल राजमहल हुए, महाराज सब आम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सुधार आगे के लिए परिवेश
सुधार आगे के लिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मौत के डर से सहमी-सहमी
मौत के डर से सहमी-सहमी
VINOD CHAUHAN
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
पिता का पेंसन
पिता का पेंसन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
किसकी किसकी कैसी फितरत
किसकी किसकी कैसी फितरत
Mukesh Kumar Sonkar
ये पल आएंगे
ये पल आएंगे
Srishty Bansal
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
Loading...