Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Aug 2023 · 1 min read

******” दो घड़ी बैठ मेरे पास ******

******” दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
******************************

दो घड़ी बैठ जरा पास कुछ बात करें।
रुक ना जाए कहीं सांस कुछ बात करें।

कुछ भरोसा ना रहा दम आये ना आये,
तुम से ही है एक आस कुछ बात करें।

यूं सिवा तेरे कभी झाँका है बाहर नहीं,
जिंदगी में हो तुम खास कुछ बात करें।

दिलों से कभी हमें खेलना आया नहीं,
बिखर गई है पुरी ताश कुछ बात करें।

बेवजह उलझन मे उलझा है मनसीरत,
आया है मौसम ना रास कुछ बात करें।
******************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

449 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जय श्री राम
जय श्री राम
goutam shaw
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
■ निकला नतीजा। फिर न कोई चाचा, न कोई भतीजा।
■ निकला नतीजा। फिर न कोई चाचा, न कोई भतीजा।
*Author प्रणय प्रभात*
मात्र एक पल
मात्र एक पल
Ajay Mishra
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
मेरी आँखों से भी नींदों का रिश्ता टूट जाता है
Aadarsh Dubey
बचा ले मुझे🙏🙏
बचा ले मुझे🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
Parvat Singh Rajput
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
नया साल
नया साल
अरशद रसूल बदायूंनी
POWER
POWER
Satbir Singh Sidhu
मुहब्बत का घुट
मुहब्बत का घुट
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मुस्कानों की बागानों में
मुस्कानों की बागानों में
sushil sarna
घर वापसी
घर वापसी
Aman Sinha
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
' नये कदम विश्वास के '
' नये कदम विश्वास के '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
"क्या देश आजाद है?"
Ekta chitrangini
💐Prodigy Love-18💐
💐Prodigy Love-18💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुमनाम ज़िन्दगी
गुमनाम ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳
अनेकता में एकता 🇮🇳🇮🇳
Madhuri Markandy
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
वो तुम्हें! खूब निहारता होगा ?
The_dk_poetry
फ़ितरतन
फ़ितरतन
Monika Verma
संगीत........... जीवन हैं
संगीत........... जीवन हैं
Neeraj Agarwal
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*धनतेरस का त्यौहार*
*धनतेरस का त्यौहार*
Harminder Kaur
2881.*पूर्णिका*
2881.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ऐसे हैं हमारे राम
ऐसे हैं हमारे राम
Shekhar Chandra Mitra
Loading...