Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2019 · 1 min read

दो कुण्डलिया -होली पर्वपर काव्य नाटिका

होली का उल्लास है , खुशियों का त्योहार ,
रंग बिरंगे हो गए , जीवन के व्यापार ।
जीवन के व्यापार , यार सब खेलें होली ,
फगुआ गायें वीर , चले गोली पर गोली ।
कह प्रवीण कविराय , न झेलें नफरत , गोली ,
रंगों का त्योहार , प्यार से खेलें होली ।

निधि वन में है खोजते , मृग समूह जल भास ,
बजी बांसुरी कृष्ण की , भूल गए सब प्यास ।
भूल गए सब प्यास , कृष्ण संग राधा नाचें ,
हरि की सब को आस , राधिका मन में वाचें ।
कह प्रवीण कविराय , श्याम संग खेले जन –जन ,
राधा कान्हा संग , गोपियाँ खेले निधि वन ।
डा प्रवीण कुमार श्रीवास्तव ,
सीतापुर , 21-03-2019

1 Like · 313 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
View all
You may also like:
भुक्त - भोगी
भुक्त - भोगी
Ramswaroop Dinkar
✴️✴️प्रेम की राह पर-70✴️✴️
✴️✴️प्रेम की राह पर-70✴️✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बुजुर्ग ओनर किलिंग
बुजुर्ग ओनर किलिंग
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
पल भर में बदल जाए
पल भर में बदल जाए
Dr fauzia Naseem shad
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
Anil Mishra Prahari
आदिपुरुष समीक्षा
आदिपुरुष समीक्षा
Dr.Archannaa Mishraa
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
आत्मविश्वास ही हमें शीर्ष पर है पहुंचाती... (काव्य)
AMRESH KUMAR VERMA
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इश्क़
इश्क़
लक्ष्मी सिंह
"वो कलाकार"
Dr Meenu Poonia
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
ये जीवन जीने का मूल मंत्र कभी जोड़ना कभी घटाना ,कभी गुणा भाग
Shashi kala vyas
उम्मीद का दिया जलाए रखो
उम्मीद का दिया जलाए रखो
Kapil rani (vocational teacher in haryana)
*घर की चौखट को लॉंघेगी, नारी दफ्तर जाएगी (हिंदी गजल)*
*घर की चौखट को लॉंघेगी, नारी दफ्तर जाएगी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
क्यों इस तरहां अब हमें देखते हो
क्यों इस तरहां अब हमें देखते हो
gurudeenverma198
मुक्तक - जिन्दगी
मुक्तक - जिन्दगी
sushil sarna
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कड़वी बात~
कड़वी बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
चंद्रयान
चंद्रयान
डिजेन्द्र कुर्रे
मेहनत तुम्हारी व्यर्थ नहीं होगी रास्तो की
मेहनत तुम्हारी व्यर्थ नहीं होगी रास्तो की
कवि दीपक बवेजा
"एको देवः केशवो वा शिवो वा एकं मित्रं भूपतिर्वा यतिर्वा ।
Mukul Koushik
सफलता का मार्ग
सफलता का मार्ग
Praveen Sain
चुलबुली मौसम
चुलबुली मौसम
Anil "Aadarsh"
मेरे दिल की धड़कनों को बढ़ाते हो किस लिए।
मेरे दिल की धड़कनों को बढ़ाते हो किस लिए।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कविता
कविता
Rekha Drolia
शर्म शर्म आती है मुझे ,
शर्म शर्म आती है मुझे ,
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नव बर्ष 2023 काआगाज
नव बर्ष 2023 काआगाज
Dr. Girish Chandra Agarwal
ग़ैरत ही होती तो
ग़ैरत ही होती तो
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...