Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2023 · 1 min read

दो कदम फासला चाहिए

**दो कदम फासला चाहिए**
***********************

दो कदम का फासला चाहिए,
जिंदगी का आसरा चाहिए|

रूठने का भी बहाना करो,
चाहने की लालसा चाहिए|

जो कहे सुनलो जरा धयान से,
बात को भी मानना चाहिए|

खौफ से होती भरा हादसा,
मौज का बस दायरा चाहिए|

याद मनसीरत नहीं है खफा,
रोकने का हौंसला चाहिए|
************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Language: Hindi
206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रेम
प्रेम
Shyam Sundar Subramanian
■ शेर-
■ शेर-
*प्रणय प्रभात*
मेरे भईया
मेरे भईया
Dr fauzia Naseem shad
सरस्वती वंदना । हे मैया ,शारदे माँ
सरस्वती वंदना । हे मैया ,शारदे माँ
Kuldeep mishra (KD)
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
सीखने की, ललक है, अगर आपमें,
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कन्या पूजन
कन्या पूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ताजमहल
ताजमहल
Satish Srijan
जब स्वार्थ अदब का कंबल ओढ़ कर आता है तो उसमें प्रेम की गरमाह
जब स्वार्थ अदब का कंबल ओढ़ कर आता है तो उसमें प्रेम की गरमाह
Lokesh Singh
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
कहर कुदरत का जारी है
कहर कुदरत का जारी है
Neeraj Mishra " नीर "
याद रखना
याद रखना
Pankaj Kushwaha
दान
दान
Neeraj Agarwal
*बदलता_है_समय_एहसास_और_नजरिया*
*बदलता_है_समय_एहसास_और_नजरिया*
sudhir kumar
ख़ामोश सा शहर
ख़ामोश सा शहर
हिमांशु Kulshrestha
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
नवगीत : हर बरस आता रहा मौसम का मधुमास
Sushila joshi
बहुत समय हो गया, मैं कल आया,
बहुत समय हो गया, मैं कल आया,
पूर्वार्थ
ek abodh balak
ek abodh balak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यादें
यादें
Dr. Rajeev Jain
संवेदना -जीवन का क्रम
संवेदना -जीवन का क्रम
Rekha Drolia
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
हम भारतीयों की बात ही निराली है ....
हम भारतीयों की बात ही निराली है ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
आओ गुफ्तगू करे
आओ गुफ्तगू करे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
महोब्बत की बस इतनी सी कहानी है
महोब्बत की बस इतनी सी कहानी है
शेखर सिंह
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/129.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं ढूंढता हूं जिसे
मैं ढूंढता हूं जिसे
Surinder blackpen
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
तुम जिंदा हो इसका प्रमाड़ दर्द है l
तुम जिंदा हो इसका प्रमाड़ दर्द है l
Ranjeet kumar patre
*एकता (बाल कविता)*
*एकता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मिलन
मिलन
Dr.Priya Soni Khare
Don't Be Judgemental...!!
Don't Be Judgemental...!!
Ravi Betulwala
Loading...