Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2023 · 1 min read

दो कदम का फासला ही सही

दो कदम का फासला ही सही
एक उम्र निकल गई सोचने में
दिल में जो था तेरा ही तो था
तुझे समझने में उम्र निकाल गई।।

2 Likes · 2 Comments · 259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from goutam shaw
View all
You may also like:
किस्से हो गए
किस्से हो गए
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मैं जिस तरह रहता हूं क्या वो भी रह लेगा
मैं जिस तरह रहता हूं क्या वो भी रह लेगा
Keshav kishor Kumar
बेटी
बेटी
Neeraj Agarwal
बखान गुरु महिमा की,
बखान गुरु महिमा की,
Yogendra Chaturwedi
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
*दिल चाहता है*
*दिल चाहता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक ही राम
एक ही राम
Satish Srijan
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
Shweta Soni
2981.*पूर्णिका*
2981.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ आज का आख़िरी शेर-
■ आज का आख़िरी शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
पंछी
पंछी
sushil sarna
तन्हा
तन्हा
अमित मिश्र
नयी भोर का स्वप्न
नयी भोर का स्वप्न
Arti Bhadauria
वो लड़की
वो लड़की
Kunal Kanth
*आओ लौटें फिर चलें, बचपन के दिन संग(कुंडलिया)*
*आओ लौटें फिर चलें, बचपन के दिन संग(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
पूर्वार्थ
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
Rituraj shivem verma
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
हमें तो देखो उस अंधेरी रात का भी इंतजार होता है
VINOD CHAUHAN
खूबसूरती
खूबसूरती
RAKESH RAKESH
"मयखाना"
Dr. Kishan tandon kranti
मशीन कलाकार
मशीन कलाकार
Harish Chandra Pande
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
Utkarsh Dubey “Kokil”
ओम के दोहे
ओम के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
हर रिश्ता
हर रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
स्वार्थी मनुष्य (लंबी कविता)
स्वार्थी मनुष्य (लंबी कविता)
SURYA PRAKASH SHARMA
Loading...