Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

दो आफ़ताब (शायरी)

आज दो गुलाब एक साथ देखे,
इतने हसीं ख्वाब एक साथ देखे।
दिल की धड़कन ही रुक गयी थी,
जब दो आफ़ताब एक साथ देखे।।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

432 Views
You may also like:
कबीर साहेब की शिक्षाएं
vikash Kumar Nidan
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
मित्रों की दुआओं से...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
प्रीतम दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
मौसम बदल रहा है
अनामिका सिंह
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये चिड़िया
अनामिका सिंह
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H. Amin
इन ख़यालों के परिंदों को चुगाने कब से
Anis Shah
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
परिंदों से कह दो।
Taj Mohammad
जिंदगी जब भी भ्रम का जाल बिछाती है।
Manisha Manjari
यारों की आवारगी
D.k Math
अजीब कशमकश
Anjana Jain
क्या लिखूं मैं मां के बारे में
Krishan Singh
पिता
Neha Sharma
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
दिल के मेयार पर
Dr fauzia Naseem shad
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
बेजुवान मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
शहीद की आत्मा
अनामिका सिंह
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...