Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

दोहे

दोहे
” योग ”
१) योगासन नियमित करे,हर क्षण रहे निरोग।
करें दूर बीमारियां, योग करे जो लोग ।।

२) जीवन में लाता सदा , योग प्रयोग निखार ।
नियमित इसको कीजिये ,होगा तभी सुधार ।।

३) मोटापे से खीझ कर , करते है व्यायाम ।
तब जाकर मिलता उन्हें , थोड़ा सा आराम ।।

४) भारत ने सिखला दिया , सारे जग को योग ।
खुशी-खुशी करते दिखें , इसका लोग प्रयोग ।।

५) छोटे मोटे कष्ट हों, योगासन से दूर ।
नहीं योग जो नित करें,रहें कष्ट में चूर ।।

६) सुबह साँझ करिये सभी , आसन भाति कपाल।
फर्क तर्क फिर देखिये , क्या है योग कमाल।।

पुष्प लता शर्मा

Language: Hindi
Tag: दोहा
1 Like · 5 Comments · 361 Views
You may also like:
शीर्षक: "मैं तेरे शहर आ भी जाऊं तो"
MSW Sunil SainiCENA
वादा करके चले गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️सलीक़ा✍️
'अशांत' शेखर
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
दिल और गुलाब
Vikas Sharma'Shivaaya'
रहना सम्भलकर यारों
gurudeenverma198
बदरवा जल्दी आव ना
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रिश्ते
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
करते है प्यार कितना ,ये बता सकते नही हम
Ram Krishan Rastogi
अरविंद सवैया छन्द।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
💐दोषानां निवारणस्य कृते प्रार्थना💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भारत माँ से प्यार
Swami Ganganiya
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
अनुपम माँ का स्नेह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हमारे राजनेता
Shekhar Chandra Mitra
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
नियति
Anamika Singh
प्यार-दिल की आवाज़
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"शेर-ऐ-पंजाब महाराजा रणजीत सिंह की धर्मनिरपेक्षता"
Pravesh Shinde
मैं आखिरी सफर पे हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
तिरंगा
Ashwani Kumar Jaiswal
*षष्ठिपूर्ति (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
नियमन
Shyam Sundar Subramanian
मेरा बचपन
Alok Vaid Azad
दूब
Shiva Awasthi
भोलाराम का भोलापन
विनोद सिल्ला
Loading...