Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

दोहे

दोहे
” योग ”
१) योगासन नियमित करे,हर क्षण रहे निरोग।
करें दूर बीमारियां, योग करे जो लोग ।।

२) जीवन में लाता सदा , योग प्रयोग निखार ।
नियमित इसको कीजिये ,होगा तभी सुधार ।।

३) मोटापे से खीझ कर , करते है व्यायाम ।
तब जाकर मिलता उन्हें , थोड़ा सा आराम ।।

४) भारत ने सिखला दिया , सारे जग को योग ।
खुशी-खुशी करते दिखें , इसका लोग प्रयोग ।।

५) छोटे मोटे कष्ट हों, योगासन से दूर ।
नहीं योग जो नित करें,रहें कष्ट में चूर ।।

६) सुबह साँझ करिये सभी , आसन भाति कपाल।
फर्क तर्क फिर देखिये , क्या है योग कमाल।।

पुष्प लता शर्मा

Language: Hindi
1 Like · 5 Comments · 514 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
हजारों के बीच भी हम तन्हा हो जाते हैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD CHAUHAN
तेरे हक़ में
तेरे हक़ में
Dr fauzia Naseem shad
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
फितरत
फितरत
Kanchan Khanna
मैं स्वयं को भूल गया हूं
मैं स्वयं को भूल गया हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आत्म  चिंतन करो दोस्तों,देश का नेता अच्छा हो
आत्म चिंतन करो दोस्तों,देश का नेता अच्छा हो
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जिंदगी का सबूत
जिंदगी का सबूत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तीर'गी  तू  बता  रौशनी  कौन है ।
तीर'गी तू बता रौशनी कौन है ।
Neelam Sharma
पंचशील गीत
पंचशील गीत
Buddha Prakash
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
रेत घड़ी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हम शरीर हैं, ब्रह्म अंदर है और माया बाहर। मन शरीर को संचालित
हम शरीर हैं, ब्रह्म अंदर है और माया बाहर। मन शरीर को संचालित
Sanjay ' शून्य'
उधार  ...
उधार ...
sushil sarna
तेरी आमद में पूरी जिंदगी तवाफ करु ।
तेरी आमद में पूरी जिंदगी तवाफ करु ।
Phool gufran
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
यात्राओं से अर्जित अनुभव ही एक लेखक की कलम की शब्द शक्ति , व
Shravan singh
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
Kuldeep mishra (KD)
*अब लिखो वह गीतिका जो, प्यार का उपहार हो (हिंदी गजल)*
*अब लिखो वह गीतिका जो, प्यार का उपहार हो (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*नारी के सोलह श्रृंगार*
*नारी के सोलह श्रृंगार*
Dr. Vaishali Verma
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
*फंदा-बूँद शब्द है, अर्थ है सागर*
Poonam Matia
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
मुक्तक
मुक्तक
anupma vaani
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
Shashi Dhar Kumar
बड़ी मुश्किल से आया है अकेले चलने का हुनर
बड़ी मुश्किल से आया है अकेले चलने का हुनर
कवि दीपक बवेजा
कविता
कविता
Rambali Mishra
"अतीत"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन के आधार पिता
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
2608.पूर्णिका
2608.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
. *विरोध*
. *विरोध*
Rashmi Sanjay
किताबें पूछती है
किताबें पूछती है
Surinder blackpen
Loading...