Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 8, 2016 · 1 min read

दोहे

दोहे
” योग ”
१) योगासन नियमित करे,हर क्षण रहे निरोग।
करें दूर बीमारियां, योग करे जो लोग ।।

२) जीवन में लाता सदा , योग प्रयोग निखार ।
नियमित इसको कीजिये ,होगा तभी सुधार ।।

३) मोटापे से खीझ कर , करते है व्यायाम ।
तब जाकर मिलता उन्हें , थोड़ा सा आराम ।।

४) भारत ने सिखला दिया , सारे जग को योग ।
खुशी-खुशी करते दिखें , इसका लोग प्रयोग ।।

५) छोटे मोटे कष्ट हों, योगासन से दूर ।
नहीं योग जो नित करें,रहें कष्ट में चूर ।।

६) सुबह साँझ करिये सभी , आसन भाति कपाल।
फर्क तर्क फिर देखिये , क्या है योग कमाल।।

पुष्प लता शर्मा

1 Like · 5 Comments · 235 Views
You may also like:
पापा
सेजल गोस्वामी
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
अश्रुपात्र A glass of years भाग 6 और 7
Dr. Meenakshi Sharma
टूटे बहुत है हम
D.k Math
अधुरा सपना
Anamika Singh
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
✍️वो क्यूँ जला करे.?✍️
"अशांत" शेखर
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रृंगार
Alok Saxena
पिता
Satpallm1978 Chauhan
ज्योति : रामपुर उत्तर प्रदेश का सर्वप्रथम हिंदी साप्ताहिक
Ravi Prakash
पिता
अवध किशोर 'अवधू'
पहले वाली मोहब्बत।
Taj Mohammad
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
जिंदगी के अनमोल मोती
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
KAMAL THAKUR
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मिलन की तड़प
Dr. Alpa H. Amin
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
खुशबू चमन की किसको अच्छी नहीं लगती।
Taj Mohammad
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
Loading...