Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Mar 2023 · 1 min read

दोहे-*

दोहे-*
मन का गहना भाव है,तन गहना पोशाक।
सोच-समझ धारण करें,तभी बचेगी नाक।।1

धूप सुखाती देह को,चुभतीं रातें सर्द।
जो बैठे हैं शीर्ष पर,वे क्या जानें दर्द।।2

उससे अपने दर्द को,साझा करना व्यर्थ।
जो भावों की समझ में,होता नहीं समर्थ।।3

उसे न कोई भी सुने,करे न कोई गौर।
आम आदमी ने सदा ,देखा है ये दौर।।4

जीवन भर करते रहे,सब जिसका उपहास।
उसके अंतिम समय में ,सारे दिखे उदास।।5
✒डाॅ बिपिन पाण्डेय

1 Like · 592 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो एक शाम
वो एक शाम
हिमांशु Kulshrestha
बच्चे (कुंडलिया )
बच्चे (कुंडलिया )
Ravi Prakash
आभ बसंती...!!!
आभ बसंती...!!!
Neelam Sharma
गमछा जरूरी हs, जब गर्द होला
गमछा जरूरी हs, जब गर्द होला
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
मुझे प्यार हुआ था
मुझे प्यार हुआ था
Nishant Kumar Mishra
ईश्वर के नाम पत्र
ईश्वर के नाम पत्र
Indu Singh
जिंदगी के उतार चढ़ाव में
जिंदगी के उतार चढ़ाव में
Manoj Mahato
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Living life now feels like an unjust crime, Sentenced to a world without you for all time.
Manisha Manjari
“बदलते रिश्ते”
“बदलते रिश्ते”
पंकज कुमार कर्ण
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
छह घण्टे भी पढ़ नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इश्क में तेरे
इश्क में तेरे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
🌹🌹 *गुरु चरणों की धूल*🌹🌹
🌹🌹 *गुरु चरणों की धूल*🌹🌹
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"परोपकार के काज"
Dr. Kishan tandon kranti
हमसे ये ना पूछो कितनो से दिल लगाया है,
हमसे ये ना पूछो कितनो से दिल लगाया है,
Ravi Betulwala
प्रभु राम अवध वापस आये।
प्रभु राम अवध वापस आये।
Kuldeep mishra (KD)
" रहना तुम्हारे सँग "
DrLakshman Jha Parimal
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
दिन तो खैर निकल ही जाते है, बस एक रात है जो कटती नहीं
दिन तो खैर निकल ही जाते है, बस एक रात है जो कटती नहीं
पूर्वार्थ
नारी तेरे रूप अनेक
नारी तेरे रूप अनेक
विजय कुमार अग्रवाल
बिल्ली
बिल्ली
SHAMA PARVEEN
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
नौकरी न मिलने पर अपने आप को अयोग्य वह समझते हैं जिनके अंदर ख
Gouri tiwari
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
Keshav kishor Kumar
# होड़
# होड़
Dheerja Sharma
****बसंत आया****
****बसंत आया****
Kavita Chouhan
■ क़ुदरत से खिलवाड़ खुद से खिलवाड़। छेड़ोगे तो छोड़ेगी नहीं।
■ क़ुदरत से खिलवाड़ खुद से खिलवाड़। छेड़ोगे तो छोड़ेगी नहीं।
*प्रणय प्रभात*
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
Dr MusafiR BaithA
Loading...