Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 17, 2016 · 1 min read

दोहे

पढ़कर के अखबार अब , पुरखे भी हैरान .
बढ़िया है बानर रहे , बने न हम इंसान .
हत्या लूट खसोट की , ना कीजै अब बात .
अब टॉपर के खेल में , होते भीतरघात .
अभी तलक तो कैद है , हर सीने में आग .
धधक गयी कुर्सी सहित , जल जायेगा भाग .
जिनके मत से आप हो . समझो उनकी बात .
चार दिनों की चांदनी ,फिर तो काली रात .
कठपुतली भी हँस रही , देख मनुज का हाल .
नर से नारायण बड़ा , लिखता सबका भाल .
——— सतीश मापतपुरी

1 Comment · 165 Views
You may also like:
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
कर्म का मर्म
Pooja Singh
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
Loading...