Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

दोहे- साँप

हिंदी दोहा बिषय- साँप*

सभी साँप अब डर गए , मानव का विष देख |
#राना ऐसा काटते , मिटे कभी मत रेख ||

जहर उगलता आदमी , साँप हुआ भयभीत |
#राना से वह कह उठा , उल्टे है अब गीत ||

#राना जंगल नष्ट है , बामी मटियामेट |
साँप शरण अब मांगता , मत करना आखेट ||

दंत हीन विष हीन है , साँप अकेले आज |
मानव में आया जहर , #राना बिगड़े काज ||

सभी तरह के साँप है , छोटे बड़े मझोल |
नेताओं के रूप में , #राना है भूगोल ||

धना साँप को देखकर , बोली हे श्रीमान |
#राना तीखा अब जहर , रखते है इंसान ||
***
दोहाकार- ✍️ राजीव नामदेव “राना लिधौरी”
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

1 Like · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
हाथों में डिग्री आँखों में निराशा,
शेखर सिंह
कुंडलिया
कुंडलिया
sushil sarna
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
डॉ अरुण कुमार शास्त्री - एक अबोध बालक - अरुण अतृप्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
कृष्णकांत गुर्जर
देश हमरा  श्रेष्ठ जगत में ,सबका है सम्मान यहाँ,
देश हमरा श्रेष्ठ जगत में ,सबका है सम्मान यहाँ,
DrLakshman Jha Parimal
फितरत
फितरत
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
2495.पूर्णिका
2495.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेचारे नेता
बेचारे नेता
दुष्यन्त 'बाबा'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
■ क्यों करते हैं टाइम खोटा, आपस में मौसेर्रे भाई??
■ क्यों करते हैं टाइम खोटा, आपस में मौसेर्रे भाई??
*Author प्रणय प्रभात*
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
आत्मवंचना
आत्मवंचना
Shyam Sundar Subramanian
*कालरात्रि महाकाली
*कालरात्रि महाकाली"*
Shashi kala vyas
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
भ्रातृ चालीसा....रक्षा बंधन के पावन पर्व पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हमें अलग हो जाना चाहिए
हमें अलग हो जाना चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
तेरे हक़ में
तेरे हक़ में
Dr fauzia Naseem shad
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
मन मस्तिष्क और तन को कुछ समय आराम देने के लिए उचित समय आ गया
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"राखी"
Dr. Kishan tandon kranti
*पतंग (बाल कविता)*
*पतंग (बाल कविता)*
Ravi Prakash
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
आगे बढ़ने दे नहीं,
आगे बढ़ने दे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लघुकथा -
लघुकथा - "कनेर के फूल"
Dr Tabassum Jahan
कि  इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
कि इतनी भीड़ है कि मैं बहुत अकेली हूं ,
Mamta Rawat
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...