Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Feb 2017 · 1 min read

दोहे…नीति पर

प्रीत रीत सबसे सुघर,तोडो़ मत विश्वास।

बिना प्रेम मानव रहे,जीवन जन्म निराश।।

नीतिपरक दोहे कहूं,सुन लो धर कर ध्यान।

प्रेम सहित विष पानकर,मीरा बनी महान।।

रावण ज्ञानी था बडा़ ,बतलाते सब लोग।
अहंकार तज नहिं सका,बहुत बडा़ ये रोग।।

त्याग कर्म को सीख लो,रखो प्रभु पर आस।
ऐ नर जीवन में कभी,होगा नहीं निराश।।

सखा नीति की बात सुन,भूखे को दो दान।
हेय दृष्टि का त्याग कर,समझ सदा भगवान।।

तृष्णा धन की है बुरी,करना नहीं अधर्म।
अंत समय पछतायगा,करता रहा कुकर्म।।

Language: Hindi
1 Comment · 516 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तन्हाई
तन्हाई
Rajni kapoor
04/05/2024
04/05/2024
Satyaveer vaishnav
युवा भारत को जानो
युवा भारत को जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
राजकुमारी
राजकुमारी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
@@ पंजाब मेरा @@
@@ पंजाब मेरा @@
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*काल क्रिया*
*काल क्रिया*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*कैसे  बताएँ  कैसे जताएँ*
*कैसे बताएँ कैसे जताएँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माँ को अर्पित कुछ दोहे. . . .
माँ को अर्पित कुछ दोहे. . . .
sushil sarna
राममय दोहे
राममय दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
"बयां"
Dr. Kishan tandon kranti
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मनुष्य
मनुष्य
Sanjay ' शून्य'
चिड़िया
चिड़िया
Dr. Pradeep Kumar Sharma
साधना
साधना
Vandna Thakur
सच सच कहना
सच सच कहना
Surinder blackpen
12, कैसे कैसे इन्सान
12, कैसे कैसे इन्सान
Dr Shweta sood
*बिटिया रानी पढ़ने जाती {बाल कविता}* ■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
*बिटिया रानी पढ़ने जाती {बाल कविता}* ■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
Ravi Prakash
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
हर वो दिन खुशी का दिन है
हर वो दिन खुशी का दिन है
shabina. Naaz
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
अब कहां लौटते हैं नादान परिंदे अपने घर को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
तेरे जवाब का इंतज़ार
तेरे जवाब का इंतज़ार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■
■ "डमी" मतलब वोट काटने के लिए खरीद कर खड़े किए गए अपात्र व अय
*प्रणय प्रभात*
पुष्प और तितलियाँ
पुष्प और तितलियाँ
Ritu Asooja
ज्योतिर्मय
ज्योतिर्मय
Pratibha Pandey
जय जय हिन्दी
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
एक अकेला
एक अकेला
Punam Pande
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कचनार kachanar
कचनार kachanar
Mohan Pandey
Loading...