Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

दोहे तरुण के।

दोहे तरुण के।
***********
कुछ पाने का हौसला,मन में अपने पाल।
अर्जुन जैसा लक्ष्य हो,चमक उठेगा भाल।।

जीवटता जिसमें नहीं,जीना उसका व्यर्थ।
कर्म करो प्रभु ने दिया, पहचानों सामर्थ।।
पंकज शर्मा “तरुण “.

798 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
आज और कल
आज और कल
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जिंदगी का सवेरा
जिंदगी का सवेरा
Dr. Man Mohan Krishna
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
मौन में भी शोर है।
मौन में भी शोर है।
लक्ष्मी सिंह
बारिश के लिए
बारिश के लिए
Srishty Bansal
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
बेटा पढ़ाओ कुसंस्कारों से बचाओ
बेटा पढ़ाओ कुसंस्कारों से बचाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"अगर हो वक़्त अच्छा तो सभी अपने हुआ करते
आर.एस. 'प्रीतम'
2621.पूर्णिका
2621.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mamta Rani
मैंने फत्ते से कहा
मैंने फत्ते से कहा
Satish Srijan
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
विचार, संस्कार और रस [ दो ]
विचार, संस्कार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
मिलते तो बहुत है हमे भी चाहने वाले
Kumar lalit
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
आंखे, बाते, जुल्फे, मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो।
Vishal babu (vishu)
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
दूर जा चुका है वो फिर ख्वाबों में आता है
Surya Barman
कुछ हाथ भी ना आया
कुछ हाथ भी ना आया
Dalveer Singh
गंणपति
गंणपति
Anil chobisa
'हाँ
'हाँ" मैं श्रमिक हूँ..!
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
DrLakshman Jha Parimal
दिल तेरी राहों के
दिल तेरी राहों के
Dr fauzia Naseem shad
रास्ते  की  ठोकरों  को  मील   का  पत्थर     बनाता    चल
रास्ते की ठोकरों को मील का पत्थर बनाता चल
पूर्वार्थ
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
The_dk_poetry
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
*आइसक्रीम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जून की कड़ी दुपहरी
जून की कड़ी दुपहरी
Awadhesh Singh
मुश्किल है कितना
मुश्किल है कितना
Swami Ganganiya
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
ये नफरत बुरी है ,न पालो इसे,
Ranjeet kumar patre
Loading...