Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2016 · 1 min read

दोहे

दोहे —- “जीत” के

झर झर निर्झर झर रहा, अम्बर से है नीर ..
हरी भरी वसुधा कहीं, कहीं विरह की पीर ..

दृश्य मनोरम हो रहा, चढ़ा प्रीत पे रंग ..
कहीं मेघ इतरा रहे, बिजुरी ले के संग..

पुरवाई की तान पे, मनवा गाये गीत ..
मधुर मिलन की आस में, रैन रहे हैं बीत ..

सराबोर हैं नीर से, नदी खेत औ ताल ..
दरस मिले जो आपका, जीवन हो खुशहाल.

——- जितेन्द्र “जीत”

Language: Hindi
1 Comment · 438 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"नहीं मिलता"
Dr. Kishan tandon kranti
हम खुद से प्यार करते हैं
हम खुद से प्यार करते हैं
ruby kumari
फितरत के रंग
फितरत के रंग
प्रदीप कुमार गुप्ता
क्योंकि मै प्रेम करता हु - क्योंकि तुम प्रेम करती हो
क्योंकि मै प्रेम करता हु - क्योंकि तुम प्रेम करती हो
Basant Bhagawan Roy
मैं राहुल गांधी बोल रहा हूं!
मैं राहुल गांधी बोल रहा हूं!
Shekhar Chandra Mitra
बुरा वक्त
बुरा वक्त
लक्ष्मी सिंह
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ हाल-बेहाल...
■ हाल-बेहाल...
*Author प्रणय प्रभात*
हिटलर
हिटलर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
मरने से पहले ख्वाहिश जो पूछे कोई
मरने से पहले ख्वाहिश जो पूछे कोई
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भोली बाला
भोली बाला
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वृक्ष लगाओ,
वृक्ष लगाओ,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏💐
दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं 🙏💐
Monika Verma
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
धन्य सूर्य मेवाड़ भूमि के
धन्य सूर्य मेवाड़ भूमि के
surenderpal vaidya
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
gurudeenverma198
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*किसे पता क्या आयु लिखी है, दिवस तीन या चार (गीत)*
*किसे पता क्या आयु लिखी है, दिवस तीन या चार (गीत)*
Ravi Prakash
दिल
दिल
Dr Archana Gupta
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
फूल मुरझाए के बाद दोबारा नई खिलय,
Krishna Kumar ANANT
Ram
Ram
Sanjay ' शून्य'
दूरियों में नजर आयी थी दुनियां बड़ी हसीन..
दूरियों में नजर आयी थी दुनियां बड़ी हसीन..
'अशांत' शेखर
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
"आकुलता"- गीत
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
💐💐मेरी इश्क़ की गल टॉपर निकली💐💐
💐💐मेरी इश्क़ की गल टॉपर निकली💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
आज तक इस धरती पर ऐसा कोई आदमी नहीं हुआ , जिसकी उसके समकालीन
Raju Gajbhiye
तेरा हासिल
तेरा हासिल
Dr fauzia Naseem shad
2507.पूर्णिका
2507.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...