Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

दोहे- अनुराग

हिंदी दोहा दिवस , विषय – अनुराग

#राना का अनुराग है , जय बुंदेली गान |
इसका होना चाहिए , सभी दिशा उत्थान ||

सब विकार अनुराग से , #राना होते शांत |
सज्जन रहते है सहज , होते नहीं क्लांत ||

करते राजा राम थे , भ्रातों से अनुराग |
#राना कहता देख लो , यहाँ परस्पर त्याग ||

जहाँ मिले अनुराग शुभ , वहाँ नहीं दीवार |
#राना रहते सब सहज , करते सबसे प्यार ||

हर विकार में आग है , #राना यह संज्ञान |
जहाँ रहे अनुराग शुभ , आ जाते भगवान ||

एक हास्य दोहा –

धना कहे #राना सुनो , मीठा जब अनुराग |
डालो लिखकर चाय में , शक्कर कर दो त्याग ||
***
✍️ -राजीव नामदेव “राना लिधौरी”,टीकमगढ़
संपादक “आकांक्षा” पत्रिका
संपादक- ‘अनुश्रुति’ त्रैमासिक बुंदेली ई पत्रिका
जिलाध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ टीकमगढ़
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र टीकमगढ़
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़ (मप्र)-472001
मोबाइल- 9893520965
Email – ranalidhori@gmail.com

2 Likes · 73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
View all
You may also like:
हर फ़साद की जड़
हर फ़साद की जड़
*Author प्रणय प्रभात*
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
तू मेरे इश्क की किताब का पहला पन्ना
Shweta Soni
3485.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3485.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
गांव का दृश्य
गांव का दृश्य
Mukesh Kumar Sonkar
"" *मौन अधर* ""
सुनीलानंद महंत
हिंदी दोहा शब्द- घटना
हिंदी दोहा शब्द- घटना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बारिश के लिए
बारिश के लिए
Srishty Bansal
मुझे दर्द सहने की आदत हुई है।
मुझे दर्द सहने की आदत हुई है।
Taj Mohammad
"जीवन की अंतिम यात्रा"
Pushpraj Anant
ये बेकरारी, बेखुदी
ये बेकरारी, बेखुदी
हिमांशु Kulshrestha
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
स्मृति शेष अटल
स्मृति शेष अटल
कार्तिक नितिन शर्मा
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा 🇮🇳
संविधान ग्रंथ नहीं मां भारती की एक आत्मा 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एहसास.....
एहसास.....
Harminder Kaur
औरत की नजर
औरत की नजर
Annu Gurjar
मौहब्बत को ख़ाक समझकर ओढ़ने आयी है ।
मौहब्बत को ख़ाक समझकर ओढ़ने आयी है ।
Phool gufran
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
कवि रमेशराज
हे प्रभु मेरी विनती सुन लो , प्रभु दर्शन की आस जगा दो
हे प्रभु मेरी विनती सुन लो , प्रभु दर्शन की आस जगा दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नर्क स्वर्ग
नर्क स्वर्ग
Bodhisatva kastooriya
ओ जानें ज़ाना !
ओ जानें ज़ाना !
The_dk_poetry
दिल से रिश्ते
दिल से रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
मेरी कविताएं पढ़ लेना
मेरी कविताएं पढ़ लेना
Satish Srijan
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Santosh Khanna (world record holder)
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Neelam Sharma
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*मस्ती भीतर की खुशी, मस्ती है अनमोल (कुंडलिया)*
*मस्ती भीतर की खुशी, मस्ती है अनमोल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...