Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 May 2022 · 2 min read

दोहा छंद विधान ( दोहा छंद में )

दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर ,
जगण पर विचार , ( दोहा छंद में )

दोहा लिखना सीखिए , शारद माँ धर ध्यान |
तेरह ग्यारह ही नहीं , होता पूर्ण विधान ||

गेय‌ छंद दोहा लिखो , लय का रखिए ख्याल |
जहाँ कलन में मेल हो , बन जाती है ताल ||

चार चरण सब जानते , तेरह ग्यारह भार |
चूक कलन से चल उठे , दोहा पर तलवार ||

अष्टम नौवीं ले जहाँ , दो मात्रा का भार |
दोहा अटता है वहाँ , गाकर देखो यार ||

जगण जहाँ पर कर रहा , दोहे का आरंभ |
क्षति होना कुछ मानते , कहें टूटता दंभ ||

यदि देवों के नाम हों , जैसे नाम. गणेश |
जगण दोष सब दूर हों, ऐसे देव महेश ||

पचकल का प्रारंभ भी , लय‌ को जाता लील |
खुद गाकर ही देखिए , पता चलेगी ढील ||

अब कलन ( समकल- विषमकल )को समझिए ~

तीन-तीन-दो , से करें , पूरा अठकल एक |
जोड़ रगण “दो- एक -दो” , विषम चरण तब नेक ||

चार – चार का जोड़ भी , होता अठकल. मान |
विषम चरण में यति नगण , सुंदर देता तान ||
(रगण = 212 , नगण = 111)

विषम चरण यति जानिए , करे रगण से गान |
अथवा करता हो नगण , दोहा का उत्थान ||

यह लय देते है सदा , गुणी जनों का शोध |
खुद गाकर ही देखिए , हो जाएगा बोध ||

सम चरणों को जानिए , तीन – तीन- दो -तीन |
चार- चार सँग तीन से , ग्यारह लगे प्रवीन ||

‘विषम’ चरण के अंत में , रगण नगण दो लाल |
जो चाहो स्वीकारिए , पर ‘सम’ रखता ताल ||

षटकल का चरणांत भी , सम में करता खेद |
दोहा लय खोता यहाँ , लिखे ‘सुभाषा ‘ भेद ||

सम- सम से चौकल बने , त्रिकल त्रिकल हो साथ |
दोहा लय में नाचता फैला दोनों हाथ ||

~~~~~`~~
निम्न दो दोहो में पहला चरण गलत लिखा व उसे
सही करके तीसरे चरण में बलताया है कि इस
तरह लिखना सही होता है

दोहा लिखना सरल है , चरण बना यह दीन |
दोहा लिखना है सरल , चरण नहीं अब हीन ||

दोहा लिखे आप सभी , नहीं चरण तुक तान |
आप सभी दोहा लिखें , दिखे चरण में गान ||

भरपाई‌ मात्रा करें , माने दोहा आप |
गलत राह पर जा रहे , छोड़ कलन के माप ||
~~~~~

अब दग्धाक्षर प्रयोग पर ~

दग्धाक्षर न कीजिए , दोहा हो प्रारंभ |
कहता पिंगल ग्रंथ है , सभी विखरते दंभ ||

इनको‌ झ र भ ष जानिए , ह भी रहे समाय‌ |
पाँच वर्ण यह लघु सदा , निज हानी बतलाय ||

पाँच वर्ण यह दीर्घ हो , करिये खूब प्रयोग |
कहत सुभाषा आपसे , दूर तभी सब रोग ||

विशेष ~
दोहा में यदि कथ्य हो , तथ्य. युक्त संदेश |
अजर – अमर दोहा रहे , कोई हो परिवेश ||

तुकबंदी दोहा बना , नहीं तथ्य पर तूल |
ऐसे दोहे जानिए , होते केवल. भूल ||

उपसंहार

विनती हम सबसे करें , अधिक न जानें ज्ञान |
पर जो कुछ भी जानता , साँझा है श्रीमान ||🙏

दोहा में लिखकर. यहाँ , बतलाया जो सार |
मौसी मेरी ‌ शारदे , करती कृपा अपार ||

डिग्री रख दी ताक पर , सीधा नाम सुभाष |
लिखता रहता हूँ सदा , मन‌‌‌‌‌ में लिए प्रकाश ||

सुभाष सिंघई जतारा {टीकमगढ़) म०प्र०

Language: Hindi
4 Likes · 3 Comments · 1143 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माना के तुम ने पा लिया
माना के तुम ने पा लिया
shabina. Naaz
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
DrLakshman Jha Parimal
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आधुनिक भारत के कारीगर
आधुनिक भारत के कारीगर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ਪਛਤਾਵਾ ਰਹਿ ਗਿਆ ਬਾਕੀ
ਪਛਤਾਵਾ ਰਹਿ ਗਿਆ ਬਾਕੀ
Surinder blackpen
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सिलसिला
सिलसिला
Ramswaroop Dinkar
लाल और उतरा हुआ आधा मुंह लेकर आए है ,( करवा चौथ विशेष )
लाल और उतरा हुआ आधा मुंह लेकर आए है ,( करवा चौथ विशेष )
ओनिका सेतिया 'अनु '
"वेश्या का धर्म"
Ekta chitrangini
ज़िंदा लाल
ज़िंदा लाल
Shekhar Chandra Mitra
काम,क्रोध,भोग आदि मोक्ष भी परमार्थ है
काम,क्रोध,भोग आदि मोक्ष भी परमार्थ है
AJAY AMITABH SUMAN
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
SHAMA PARVEEN
रामराज्य
रामराज्य
Suraj Mehra
ख़्वाब का
ख़्वाब का
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जीवन मंथन
जीवन मंथन
Satya Prakash Sharma
* चलते रहो *
* चलते रहो *
surenderpal vaidya
नया साल
नया साल
अरशद रसूल बदायूंनी
2538.पूर्णिका
2538.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
धन की खातिर तन बिका, साथ बिका ईमान ।
sushil sarna
♥️पिता♥️
♥️पिता♥️
Vandna thakur
दिनांक - २१/५/२०२३
दिनांक - २१/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जिंदगी की खोज
जिंदगी की खोज
CA Amit Kumar
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
जब तुम एक बड़े मकसद को लेकर चलते हो तो छोटी छोटी बाधाएं तुम्
Drjavedkhan
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
Bhupendra Rawat
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
"कवि और नेता"
Dr. Kishan tandon kranti
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
Rituraj shivem verma
Loading...