Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#3 Trending Author
May 15, 2022 · 2 min read

दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर , जगण पर विचार , ( दोहा छंद में )

दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर ,
जगण पर विचार , ( दोहा छंद में )

दोहा लिखना सीखिए , शारद माँ धर ध्यान |
तेरह ग्यारह ही नहीं , होता पूर्ण विधान ||

गेय‌ छंद दोहा लिखो , लय का रखिए ख्याल |
जहाँ कलन में मेल हो , बन जाती है ताल ||

चार चरण सब जानते , तेरह ग्यारह भार |
चूक कलन से चल उठे , दोहा पर तलवार ||

अष्टम नौवीं ले जहाँ , दो मात्रा का भार |
दोहा अटता है वहाँ , गाकर देखो यार ||

जगण जहाँ पर कर रहा , दोहे का आरंभ |
क्षति होना कुछ मानते , कहें टूटता दंभ ||

यदि देवों के नाम हों , जैसे नाम. गणेश |
जगण दोष सब दूर हों, ऐसे देव महेश ||

पचकल का प्रारंभ भी , लय‌ को जाता लील |
खुद गाकर ही देखिए , पता चलेगी ढील ||

अब कलन ( समकल- विषमकल )को समझिए ~

तीन-तीन-दो , से करें , पूरा अठकल एक |
जोड़ रगण “दो- एक -दो” , विषम चरण तब नेक ||

चार – चार का जोड़ भी , होता अठकल. मान |
विषम चरण में यति नगण , सुंदर देता तान ||
(रगण = 212 , नगण = 111)

विषम चरण यति जानिए , करे रगण से गान |
अथवा करता हो नगण , दोहा का उत्थान ||

यह लय देते है सदा , गुणी जनों का शोध |
खुद गाकर ही देखिए , हो जाएगा बोध ||

सम चरणों को जानिए , तीन – तीन- दो -तीन |
चार- चार सँग तीन से , ग्यारह लगे प्रवीन ||

‘विषम’ चरण के अंत में , रगण नगण दो लाल |
जो चाहो स्वीकारिए , पर ‘सम’ रखता ताल ||

षटकल का चरणांत भी , सम में करता खेद |
दोहा लय खोता यहाँ , लिखे ‘सुभाषा ‘ भेद ||

सम- सम से चौकल बने , त्रिकल त्रिकल हो साथ |
दोहा लय में नाचता फैला दोनों हाथ ||

~~~~~`~~
निम्न दो दोहो में पहला चरण गलत लिखा व उसे
सही करके तीसरे चरण में बलताया है कि इस
तरह लिखना सही होता है

दोहा लिखना सरल है , चरण बना यह दीन |
दोहा लिखना है सरल , चरण नहीं अब हीन ||

दोहा लिखे आप सभी , नहीं चरण तुक तान |
आप सभी दोहा लिखें , दिखे चरण में गान ||

भरपाई‌ मात्रा करें , माने दोहा आप |
गलत राह पर जा रहे , छोड़ कलन के माप ||
~~~~~

अब दग्धाक्षर प्रयोग पर ~

दग्धाक्षर न कीजिए , दोहा हो प्रारंभ |
कहता पिंगल ग्रंथ है , सभी विखरते दंभ ||

इनको‌ झ र भ ष जानिए , ह भी रहे समाय‌ |
पाँच वर्ण यह लघु सदा , निज हानी बतलाय ||

पाँच वर्ण यह दीर्घ हो , करिये खूब प्रयोग |
कहत सुभाषा आपसे , दूर तभी सब रोग ||

विशेष ~
दोहा में यदि कथ्य हो , तथ्य. युक्त संदेश |
अजर – अमर दोहा रहे , कोई हो परिवेश ||

तुकबंदी दोहा बना , नहीं तथ्य पर तूल |
ऐसे दोहे जानिए , होते केवल. भूल ||

उपसंहार

विनती हम सबसे करें , अधिक न जानें ज्ञान |
पर जो कुछ भी जानता , साँझा है श्रीमान ||🙏

दोहा में लिखकर. यहाँ , बतलाया जो सार |
मौसी मेरी ‌ शारदे , करती कृपा अपार ||

डिग्री रख दी ताक पर , सीधा नाम सुभाष |
लिखता रहता हूँ सदा , मन‌‌‌‌‌ में लिए प्रकाश ||

सुभाष सिंघई जतारा {टीकमगढ़) म०प्र०

3 Likes · 3 Comments · 181 Views
You may also like:
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
Love Heart
Buddha Prakash
वक्त ए मर्ग है खुद को हंसाएं कैसे।
Taj Mohammad
जन्म दिन का खास तोहफ़ा।
Taj Mohammad
जिन्दगी और चाहत
Anamika Singh
काफ़िर जमाना
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
✍️जिंदगी के अस्ल✍️
'अशांत' शेखर
Security Guard
Buddha Prakash
'बेवजह'
Godambari Negi
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
मोरे सैंया
DESH RAJ
जय हिन्द जय भारत
Swami Ganganiya
दुआएं करेंगी असर धीरे- धीरे
Dr Archana Gupta
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
जनसंख्या नियंत्रण कानून कब ?
Deepak Kohli
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
रामपुर में दंत चिकित्सा की आधी सदी के पर्याय डॉ....
Ravi Prakash
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक नारी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
जाको राखे साईयाँ मार सके न कोय
Anamika Singh
रिश्तों की अहमियत को न करें नज़र अंदाज़
Dr fauzia Naseem shad
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
गुरु
Mamta Rani
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
मन की बात
Rashmi Sanjay
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
Loading...