Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2022 · 1 min read

दोहावली…(११)

मधुर भाव – नैवेद्य ले, चरण नवाऊँ शीश।
वरद हस्त सिर पर धरो, कृपा करो जगदीश।।१।।

चिंता को दिल से लगा, सका न कोई जीत।
घुन बन सत सब लीलती, जीवन जाता रीत।।२।।

मन तक उसकी पैठ हो, दे मत इतनी ढील।
चित कर चिंता चित्त को, लेती जीवन लील।।३।।

जीवन की हर साध में, भरे लक्ष्य ही रंग।
लक्ष्य सधी इक डोर पर, अंबर छुए पतंग।।४।।

साधन बेशक तुच्छ हों, इच्छा-शक्ति बुलंद।
चीरकर घनघोर निशा, बढ़ो काट सब फंद।।५।।

भाग्य भरोसे जो रहें, धरे हाथ पर हाथ।
रूठे उनसे दैव भी, देता कभी न साथ।।६।।

करनी उसकी देखकर, कुछ तो लो संज्ञान।
बिल्ली मूँदे नैन तो, कहें इसे क्या ध्यान ?।।७।।

निष्कंटक आगे बढ़ें, मेटें सभी विरोध।
डग भरने के पूर्व जो, करें लक्ष्य पर शोध।।८।।

ऊँचे जिनके कर्म हैं, ऊँची जिनकी साख।
अमा-तमस को चीरकर, जीते उजला पाख।।९।।

लुढ़का पारा शून्य पर, कुहर-शीत की धूम।
सूरज भी आया मनो, सर्द हिमालय चूम।।१०।।

निर्धन बिलखे भूख से, कौर न आए हाथ।
पंडित मोटी तोंद पर, फेरे सुख से हाथ।।११।।

© डॉ0 सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद (उ.प्र.)
साझा संग्रह “काव्य क्षितिज” में प्रकाशित

Language: Hindi
3 Likes · 426 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
When I was a child.........
When I was a child.........
Natasha Stephen
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
धुप मे चलने और जलने का मज़ाक की कुछ अलग है क्योंकि छाव देखते
Ranjeet kumar patre
Scattered existence,
Scattered existence,
पूर्वार्थ
"उल्फ़त के लिबासों में, जो है वो अदावत है।
*प्रणय प्रभात*
ऐसा क्यों होता है..?
ऐसा क्यों होता है..?
Dr Manju Saini
मैं
मैं
Ajay Mishra
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
🌹लफ्ज़ों का खेल🌹
Dr Shweta sood
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
शब्द शब्द उपकार तेरा ,शब्द बिना सब सून
Namrata Sona
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
Neelam Sharma
मौत के बाज़ार में मारा गया मुझे।
मौत के बाज़ार में मारा गया मुझे।
Phool gufran
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
छंद मुक्त कविता : अनंत का आचमन
Sushila joshi
*भूकंप का मज़हब* ( 20 of 25 )
*भूकंप का मज़हब* ( 20 of 25 )
Kshma Urmila
होता नहीं कम काम
होता नहीं कम काम
जगदीश लववंशी
जिंदगी के उतार चढ़ाव में
जिंदगी के उतार चढ़ाव में
Manoj Mahato
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
शिकायत नही तू शुक्रिया कर
Surya Barman
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
रेखा कापसे
अमिट सत्य
अमिट सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
चारु
चारु
NEW UPDATE
मेरी कविता
मेरी कविता
Raju Gajbhiye
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
Rekha khichi
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"महत्वाकांक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
विचारिए क्या चाहते है आप?
विचारिए क्या चाहते है आप?
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
गंगा अवतरण
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जन्म-जन्म का साथ.....
जन्म-जन्म का साथ.....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ख़ुश रहना है
ख़ुश रहना है
Monika Arora
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
Harminder Kaur
Loading...