Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,

दोस्तों की महफिल में वो इस कदर खो गए ,
अपनो की तो छोड़ो वो तो हमे ही भूल गए।
………✍️ योगेन्द्र चतुर्वेदी

49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी पर नाज है !
हिन्दी पर नाज है !
Om Prakash Nautiyal
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
5 हिन्दी दोहा बिषय- विकार
5 हिन्दी दोहा बिषय- विकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
😊😊😊
😊😊😊
*प्रणय प्रभात*
#शीर्षक;-ले लो निज अंक मॉं
#शीर्षक;-ले लो निज अंक मॉं
Pratibha Pandey
How do you want to be loved?
How do you want to be loved?
पूर्वार्थ
ध्यान एकत्र
ध्यान एकत्र
शेखर सिंह
ना अश्रु कोई गिर पाता है
ना अश्रु कोई गिर पाता है
Shweta Soni
महाश्रृंङ्गार_छंद_विधान _सउदाहरण
महाश्रृंङ्गार_छंद_विधान _सउदाहरण
Subhash Singhai
भोर पुरानी हो गई
भोर पुरानी हो गई
आर एस आघात
ज़रूरी ना समझा
ज़रूरी ना समझा
Madhuyanka Raj
परेशानियों से न घबराना
परेशानियों से न घबराना
Vandna Thakur
शब्द✍️ नहीं हैं अनकहे😷
शब्द✍️ नहीं हैं अनकहे😷
डॉ० रोहित कौशिक
गुलाबी शहतूत से होंठ
गुलाबी शहतूत से होंठ
हिमांशु Kulshrestha
कलम और रोशनाई की यादें
कलम और रोशनाई की यादें
VINOD CHAUHAN
Nowadays doing nothing is doing everything.
Nowadays doing nothing is doing everything.
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
युवा भारत को जानो
युवा भारत को जानो
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
फिर एक समस्या
फिर एक समस्या
A🇨🇭maanush
गुलाब
गुलाब
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
दुख तब नहीं लगता
दुख तब नहीं लगता
Harminder Kaur
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
Rj Anand Prajapati
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
Manisha Manjari
मानवता का मुखड़ा
मानवता का मुखड़ा
Seema Garg
*
*"हरियाली तीज"*
Shashi kala vyas
जो समझना है
जो समझना है
Dr fauzia Naseem shad
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
Ajay Kumar Vimal
इंतहा
इंतहा
Kanchan Khanna
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
न ठंड ठिठुरन, खेत न झबरा,
Sanjay ' शून्य'
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
Ravi Prakash
फिदरत
फिदरत
Swami Ganganiya
Loading...