Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2023 · 1 min read

दोस्ती

सच तो यही है
हम समझते कहां है
बस जहां में शक करते हैं
जो दोस्ती में विश्वास करते हैं
सही राह पर कामयाब होते हैं
क्योंकि दोस्ती ही एक रिश्ता है
जहां मन भाव और सच बसता है
बस एहसास और एतबार पर दोस्त चलता है
आज हम सभी दोस्ती के संग साथ रहते हैं
हां दोस्तों, दोस्ती का सच ही आज होता हैं।

नीरज

Language: Hindi
213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
माँ तेरे चरणों
माँ तेरे चरणों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
छंद घनाक्षरी...
छंद घनाक्षरी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ दुर्जन संगठित, सज्जन विघटित।
■ दुर्जन संगठित, सज्जन विघटित।
*प्रणय प्रभात*
रात बसर हो जाती है यूं ही तेरी यादों में,
रात बसर हो जाती है यूं ही तेरी यादों में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
होली के दिन
होली के दिन
Ghanshyam Poddar
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
" तेरा एहसान "
Dr Meenu Poonia
कान में रखना
कान में रखना
Kanchan verma
Good morning 🌅🌄
Good morning 🌅🌄
Sanjay ' शून्य'
चांदनी की झील में प्यार का इज़हार हूँ ।
चांदनी की झील में प्यार का इज़हार हूँ ।
sushil sarna
समस्या का समाधान
समस्या का समाधान
Paras Nath Jha
फेसबूक में  लेख ,कविता ,कहानियाँ और संस्मरण संक्षिप्त ,सरल औ
फेसबूक में लेख ,कविता ,कहानियाँ और संस्मरण संक्षिप्त ,सरल औ
DrLakshman Jha Parimal
हम बच्चों की आई होली
हम बच्चों की आई होली
लक्ष्मी सिंह
शिव-शक्ति लास्य
शिव-शक्ति लास्य
ऋचा पाठक पंत
होली पर
होली पर
Dr.Pratibha Prakash
3130.*पूर्णिका*
3130.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल नहीं ऐतबार
दिल नहीं ऐतबार
Dr fauzia Naseem shad
चंद तारे
चंद तारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
धार्मिक होने का मतलब यह कतई नहीं कि हम किसी मनुष्य के आगे नत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
Even the most lovable, emotional person gets exhausted if it
Even the most lovable, emotional person gets exhausted if it
पूर्वार्थ
पानी बचाऍं (बाल कविता)
पानी बचाऍं (बाल कविता)
Ravi Prakash
एक अबोध बालक डॉ अरुण कुमार शास्त्री
एक अबोध बालक डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रूबरू।
रूबरू।
Taj Mohammad
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा
Raju Gajbhiye
आधुनिक हिन्दुस्तान
आधुनिक हिन्दुस्तान
SURYA PRAKASH SHARMA
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
कभी तो तुम्हे मेरी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वो जो आए दुरुस्त आए
वो जो आए दुरुस्त आए
VINOD CHAUHAN
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
रमेशराज के साम्प्रदायिक सद्भाव के गीत
रमेशराज के साम्प्रदायिक सद्भाव के गीत
कवि रमेशराज
Loading...