Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

दोस्त

मेरे सभी दोस्तों को“ फ्रेन्डशीप डे “की
ढेर सारी शुभ कामनाएँ—
???
हर किसी को,
एक दोस्त की
चाह होती है ।
???
साथ दोस्त हो,
तो आसान हर
राह होती है ।
???
दोस्तों की खुशी से,
दोस्त को कहाँ
डाह होती है ।
???
जीवन रूपी
तपती धूप में,
दोस्त तो शीतल
छाँह होती है ।
????
?लक्ष्मी सिंह ?

1 Like · 526 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
नदियां जो सागर में जाती उस पाणी की बात करो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
"सागर तट पर"
Dr. Kishan tandon kranti
Love yourself
Love yourself
आकांक्षा राय
*दाबे बैठे देश का, रुपया धन्ना सेठ( कुंडलिया )*
*दाबे बैठे देश का, रुपया धन्ना सेठ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
आबरू भी अपनी है
आबरू भी अपनी है
Dr fauzia Naseem shad
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
ruby kumari
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
मकड़ी ने जाला बुना, उसमें फँसे शिकार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Arj Kiya Hai...
Arj Kiya Hai...
Nitesh Kumar Srivastava
मेरा चाँद न आया...
मेरा चाँद न आया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सब कुर्सी का खेल है
सब कुर्सी का खेल है
नेताम आर सी
Safeguarding Against Cyber Threats: Vital Cybersecurity Measures for Preventing Data Theft and Contemplated Fraud
Safeguarding Against Cyber Threats: Vital Cybersecurity Measures for Preventing Data Theft and Contemplated Fraud
Shyam Sundar Subramanian
अब इस मुकाम पर आकर
अब इस मुकाम पर आकर
shabina. Naaz
काश
काश
लक्ष्मी सिंह
जीवन में सही सलाहकार का होना बहुत जरूरी है
जीवन में सही सलाहकार का होना बहुत जरूरी है
Rekha khichi
पराये सपने!
पराये सपने!
Saransh Singh 'Priyam'
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
सुबह होने को है साहब - सोने का टाइम हो रहा है
Atul "Krishn"
होली औऱ ससुराल
होली औऱ ससुराल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-424💐
💐प्रेम कौतुक-424💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जब -जब धड़कन को मिली,
जब -जब धड़कन को मिली,
sushil sarna
मैं तो महज एहसास हूँ
मैं तो महज एहसास हूँ
VINOD CHAUHAN
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
Rj Anand Prajapati
नयी भोर का स्वप्न
नयी भोर का स्वप्न
Arti Bhadauria
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
हमारे तो पूजनीय भीमराव है
gurudeenverma198
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
जिन पांवों में जन्नत थी उन पांवों को भूल गए
कवि दीपक बवेजा
मैं विवेक शून्य हूँ
मैं विवेक शून्य हूँ
संजय कुमार संजू
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
The_dk_poetry
तेरे लिखे में आग लगे / MUSAFIR BAITHA
तेरे लिखे में आग लगे / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
किया आप Tea लवर हो?
किया आप Tea लवर हो?
Urmil Suman(श्री)
Loading...