Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

दोस्ती पर लिखी आन्दित कर देने वाली चंद पंक्तियाँ

आज की कविता लीजिये आनन्द
एक सन्त ने कहा जब दो आत्माएं एक दूसरे के लिए होती है सती तो ही होती है दोस्ती ।
इसलिए मन किया दोस्ती पर एक रचना लिखी जाये और एक मित्र का भी आह्वान था कि आप दोस्ती पर लिखें कुछ तो पढ़िए
“दोस्ती ”
जिस नाम को सुनते ही आती है चेहरे पर ख़ुशी
वही तो होती है लाजवाब , मेरे जनाब दोस्ती
इसके किस्से इतिहासों में लाखों मिलते हैं
कृष्ण सुदामा सुनते भी कई चेहरे खिलते है
कुछ स्वरूप दोस्ती का आजकल बदल इस कदर गया
बलिदान से बदल हर दोस्त , चढ़ स्वार्थ की डगर गया
दोस्ती तो होता ही नाम कुर्बानी का
जो हो ऐसे , रखे याद जमाना उसकी बलिदानी का
अब तो लोग दोस्तों से व्यापार किया करते हैं
यार होकर अधिकतर यार मार किया करते हैं
वक़्त की सुनामी कब किसे बहा ले जाये क्या पता
दोस्त को दुःखी करने की न कर ये खता
दोस्त तो तेरे हर लम्हें में तेरी परछाई है
ये बात हर किसी के कहाँ समझ में आई है ।
दोस्ती है रहमत खुदा की , जिसने दिल से निभायी है ।
बताने दोस्ती की दास्ताँ , मलिक ने कलम चलाई है ।
परखो दोस्त को लाख बार , पर जब हो जाये विश्वास
फिर ना पीछे हटना उससे , बेशक खत्म हो जाये तेरे पूरे श्वास
बदलते वक़्त में बेशक राही ने ढलते जाना है ।
पर दोस्ती ने तो ऐसे ही चलते जाना है ।
दोस्ती ने तो ऐसे ही चलते जाना है।
आपका कृष्ण मलिक ©®

03.07.2016

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 10625 Views
You may also like:
कृतज्ञता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दुश्मन जमाना बेटी का
लक्ष्मी सिंह
ईमान से बसर
Satish Srijan
मेरे माता-पिता
Shyam Sundar Subramanian
वफ़ा
shabina. Naaz
"ऐनक मित्र"
Dr Meenu Poonia
★दर्द भरा जीवन तेरा दर्दों से घबराना नहीं★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
सीधेपन का फ़ायदा उठाया न करो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
कहियो तऽ भेटब(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
बुरे फँसे हम(हास्य गीत)
Ravi Prakash
हौसला (हाइकु)
Vijay kumar Pandey
बिहार में खेला हो गया
Ram Krishan Rastogi
कुण्डलिया के छंद में
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🙏महागौरी🙏
पंकज कुमार कर्ण
✍️अच्छे दिन✍️
'अशांत' शेखर
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
मंगलवत्थू छंद (रोली छंद ) और विधाएँ
Subhash Singhai
कुछ न कुछ
Dr fauzia Naseem shad
पुस्तक समीक्षा-----
राकेश चौरसिया
बरसात
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
तेरा नाम मेरे नाम से जुड़ा
Seema 'Tu hai na'
लांघो रे मन….
Rekha Drolia
बदला सा......
Kavita Chouhan
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
Anis Shah
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
इंसा का रोना भी जरूरी होता है।
Taj Mohammad
करें नहीं ऐसे लालच हम
gurudeenverma198
सावन आया आई बहार
Anamika Singh
“AUTOCRATIC GESTURE OF GROUP ON FACEBOOK”
DrLakshman Jha Parimal
वतन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...