Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2023 · 2 min read

“बेटी और बेटा”

बेटी मेरी दौलत हैं, बेटा मेरा सोहरत है।
बेटी मेरी मान है, बेटा मेरा सम्मान है।

बेटी मेरी पूजा है ,बेटा मेरा आस्था है।
बेटी मेरी फल है, बेटा मेरा कर्म है।

बेटी मेरी संस्कार है, बेटा मेरा अधिकार है।
बेटी मेरी इज्जत है,बेटा मेरा मर्यादा है।

बेटी मेरी जान है, बेटा मेरा जहान है।
बेटी मेरी फूल है बेटा मेरा बगिया हैं।

बेटी मेरी पेटी है, बेटा मेरा धन हैं।
बेटी मेरी आंगन है ,बेटा मेरा मकान हैं।

बेटी मेरी लाज है, बेटा मेरा साज है।
बेटी मेरी वृद्धि है, बेटा मेरा समृद्दि है।

बेटी मेरी अंश है, बेटा मेरा वंश है।
बेटी मेरी आकार है, बेटा मेरा प्रकार है।

बेटी मेरी आस है, बेटा मेरा सांस है।
बेटी मेरी चाहत है,बेटा मेरा आहट है।

बेटी मेरी ज्योति है, बेटा मेरा प्रकाश है।
बेटी मेरी चांद है, बेटा मेरा सूरज है।

बेटी मेरी नाज है, बेटा मेरा ताज है।
बेटी मेरी विश्वास है, बेटा मेरा प्रयास है।

बेटी मेरी धरती है ,बेटा मेरा आकाश है।
बेटी मेरी वैभव है, बेटा मेरा ऐश्वर्य है।

बेटी मेरी आभास है, बेटा मेरा एहसास है।
बेटी मेरी अर्पण है, बेटा मेरा दर्पण है।

बेटी मेरी संस्कार है, बेटा मेरा विचार है।
बेटी मेरी अनुभूति है, बेटा मेरा सहानभूति है।

बेटी मेरी रूप है, बेटा मेरा प्रारूप है।
बेटी मेरी मोल है ,बेटा मेरा अनमोल है।

बेटी मेरी आदि है, बेटा मेरा अनन्त है।
बेटी मेरी कहानी है, बेटा मेरा जुबानी है।

बेटी मेरी चहक है, बेटा मेरा महक है।
बेटी मेरी देहली है,बेटा मेरा द्वार है।

बेटी मेरी पूर्ण है, बेटा मेरा सम्पूर्ण है।
बेटी मेरी देवी है, बेटा मेरा देव हैं।।

लेखिका:- एकता श्रीवास्तव।
प्रयागराज✍️

1 Like · 339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ekta chitrangini
View all
You may also like:
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*धन्य-धन्य वे वीर, लक्ष्य जिनका आजादी* *(कुंडलिया)*
*धन्य-धन्य वे वीर, लक्ष्य जिनका आजादी* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*अज्ञानी की कलम  *शूल_पर_गीत*
*अज्ञानी की कलम *शूल_पर_गीत*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
उस बाग का फूल ज़रूर बन जाना,
उस बाग का फूल ज़रूर बन जाना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
राधा अब्बो से हां कर दअ...
राधा अब्बो से हां कर दअ...
Shekhar Chandra Mitra
■ आंसू माने भेदिया।
■ आंसू माने भेदिया।
*प्रणय प्रभात*
2768. *पूर्णिका*
2768. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
Jatashankar Prajapati
16, खुश रहना चाहिए
16, खुश रहना चाहिए
Dr Shweta sood
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
आप किसी का कर्ज चुका सकते है,
Aarti sirsat
जिंदगी में कभी उदास मत होना दोस्त, पतझड़ के बाद बारिश ज़रूर आत
जिंदगी में कभी उदास मत होना दोस्त, पतझड़ के बाद बारिश ज़रूर आत
Pushpraj devhare
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
हमेशा आंखों के समुद्र ही बहाओगे
कवि दीपक बवेजा
*
*"मुस्कराने की वजह सिर्फ तुम्हीं हो"*
Shashi kala vyas
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
Parvat Singh Rajput
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
गुप्तरत्न
जंग अहम की
जंग अहम की
Mamta Singh Devaa
-- नसीहत --
-- नसीहत --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
रिश्ते
रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
सच्चाई का रास्ता
सच्चाई का रास्ता
Sunil Maheshwari
ज़िंदगी चाँद सा नहीं करना
ज़िंदगी चाँद सा नहीं करना
Shweta Soni
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
बट विपट पीपल की छांव ??
बट विपट पीपल की छांव ??
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
World Tobacco Prohibition Day
World Tobacco Prohibition Day
Tushar Jagawat
मन को दीपक की भांति शांत रखो,
मन को दीपक की भांति शांत रखो,
Anamika Tiwari 'annpurna '
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
मोहब्बत में मोहब्बत से नजर फेरा,
goutam shaw
"फूल"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
पाँच मिनट - कहानी
पाँच मिनट - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
Loading...