Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2023 · 2 min read

दोस्ती का कर्ज

रामपुर में अमर नाम का एक सीधा-सादा, होनहार लड़का रहता था। एक दिन विद्यालय से लौटते समय रास्ते में उसने देखा कि कुछ बच्चे एक बंदर के पीछे पड़े हैं। उसे चिढा रहे हैं। कोई उसे पत्थर से मार रहा है, तो कोई डंडे से। अमर को यह अच्छा नहीं लगा। उसने बच्चों को समझाया कि वे लोग बंदर को न छेड़ें, पर बच्चे मानने की बजाय अमर से ही झगड़ने लगे। लेकिन अमर भी ताकत व फूर्ती में किसी से कम नहीं था। उसने लड़कोें को मार भगाया और घायल बंदर को घर लाकर उसकी मरहम पट्टी करायी।

दिन बीतते देर नहीं लगतीं। अब वह बंदर पूरी तरह से पालतु बन गया था। अमर ने उसका नाम ‘बजरंगी’ रखा। कुछ ही दिनों में अमर और बजरंगी में गहरी दोस्त हो गयी। अमर अपना अधिकांश समय बजरंगी के साथ बिताता। दोनो एक साथ खेलते। रात को जब अमर अपनी चारपाई पर सो जाता, तो बजरंगी भी चारपाई के नीचे सो जाता। बजरंगी बहुत ही कम सोता था। एक तरह से वह घर का पहरेदार बन गया था। आँगन में अकसर टहलता रहता।

एक रात जब घर के सब लोग सो गये तो घर के बाहर किसी के चलने-फिरने और ठक-ठक की आवाज सुनकर बजरंगी के कान खडे़ हो गए। वह खतरे की आशंका जान छत पर लटक रहे पंखे पर चढ़़ गया।

कुछ समय बाद उसने देखा कि दीवार फाँंदकर एक चोर घर में घुस आया है। चोर के दीवार फाँदने की आवाज से अमर की आँख खुल गयी और वह जोर-जोर से चिल्लाने लगा ‘‘चोर-चोर’’।

चोर ने लपक कर अमर का मुँह बंद कर दिया और बन्दुक की नाल उसके कान से सटाकर कहा- ‘‘खबरदार ! मुँह से एक भी आवाज निकली तो बंदुक की छः की छः गोलियाँ तुम्हारे सिर में होंगी।’’

बजरंगी ने यह देखा तो उसका कलेजा मुँह को आ गया। हाय ! क्या उसकी आँखों के सामने ही उसके दोस्त को मार दिया जाएगा। उस दोस्त को जिसने कभी उसे दुष्ट बच्चों के हाथों मरने से बचाया था। नहीं, बजरंगी के जीतेे-जी उसके दोस्त का बाल भी बाँका नहीं होगा। चाहे इसके लिए उसे अपनी जान ही क्यों ने गंवानी पडे़। दोस्ती का कर्ज उतारने का समय आ गया है।‘‘ बजरंगी ने सोचा।

उसने सोच लिया था कि उसे क्या करना है।

वह पंखे से बिजली की फूर्ती से कूदा। चोर इस अचानक हुए आक्रमण को समझ न सका और बंदूक की छः की छः गोलियाँ बंदर के पेट में मार दी। उसके मुँह से उफ्फ तक न निकली। उसकी बेजान शरीर अब भी चोर को जकडे़ हुए थी।

बंदुक चलने की आवाज सुन कर अमर के माता-पिता और पड़ोसी भी जाग गए। पड़ोसियों ने चोर को अपनी गिरफ्त में ले लिया।

अमर बजरंगी की ओर झपटा। बजरंगी की लाश को रोते-रोते अमर गोद में उठाकर सहलाने लगा।

अमर की आँखों में आँसू थे, परंतु बजरंगी की आँखों में चमक थी।

उसने अपनी दोस्ती का कर्ज चुका दिया था।

– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

1 Like · 151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" ढले न यह मुस्कान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
तन पर हल्की  सी धुल लग जाए,
तन पर हल्की सी धुल लग जाए,
Shutisha Rajput
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
The_dk_poetry
*करो योग-व्यायाम, दाल-रोटी नित खाओ (कुंडलिया)*
*करो योग-व्यायाम, दाल-रोटी नित खाओ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
अधरों पर शतदल खिले, रुख़ पर खिले गुलाब।
डॉ.सीमा अग्रवाल
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
होते हम अजनबी तो,ऐसा तो नहीं होता
gurudeenverma198
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
ढल गया सूरज बिना प्रस्तावना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिन्दगी की यात्रा में हम सब का,
जिन्दगी की यात्रा में हम सब का,
नेताम आर सी
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
Dr MusafiR BaithA
अनजान राहें अनजान पथिक
अनजान राहें अनजान पथिक
SATPAL CHAUHAN
आईना
आईना
Sûrëkhâ Rãthí
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
हिम्मत है तो मेरे साथ चलो!
विमला महरिया मौज
वजह ऐसी बन जाऊ
वजह ऐसी बन जाऊ
Basant Bhagawan Roy
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"पकौड़ियों की फ़रमाइश" ---(हास्य रचना)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
हर एक चोट को दिल में संभाल रखा है ।
Phool gufran
"कूँचे गरीब के"
Ekta chitrangini
💐प्रेम कौतुक-244💐
💐प्रेम कौतुक-244💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"ऐसा है अपना रिश्ता "
Yogendra Chaturwedi
कोई शुहरत का मेरी है, कोई धन का वारिस
कोई शुहरत का मेरी है, कोई धन का वारिस
Sarfaraz Ahmed Aasee
तन माटी का
तन माटी का
Neeraj Agarwal
★किसान ★
★किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
🦋 *आज की प्रेरणा🦋
🦋 *आज की प्रेरणा🦋
Tarun Singh Pawar
कृतज्ञता
कृतज्ञता
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" हर वर्ग की चुनावी चर्चा “
Dr Meenu Poonia
लिखते दिल के दर्द को
लिखते दिल के दर्द को
पूर्वार्थ
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
कवि रमेशराज
फगुनाई मन-वाटिका,
फगुनाई मन-वाटिका,
Rashmi Sanjay
तेरी परवाह करते हुए ,
तेरी परवाह करते हुए ,
Buddha Prakash
■ फ़ोकट का एटीट्यूड...!!
■ फ़ोकट का एटीट्यूड...!!
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...