Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

दोगलापन

पत्नी तुम्हारे कहने से मुस्कराए
तुम्हारे कहने से जागे
तुम्हारे कहने से सो जाए
तुम्हारे घर में रहकर
तुम्हारी सुविधाओं का
भरपूर ख़्याल रखे
इसके बावजूद
उसके नाम के आगे
कोई अलंकार जड़ने की
कोई जहमत ना उठाई जाए ,
तुम कमाई करके
अपने घर के मालिक
कभी भी घर आओ जाओ
अपने हिसाब से
उठो बैठो और मुस्कराओ
जब जी करे
जो चाहो बनवाओ खाओ
और दुनिया जहान में
पत्नी से प्रेम करने वाले
आज्ञाकारी पति कहलाओ ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा )
#दोगलापन #प्रेम #पति #पत्नी #अलंकार
#आज्ञाकारी #दुनिया #मालिक

63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Singh Devaa
View all
You may also like:
करो सम्मान पत्नी का खफा संसार हो जाए
करो सम्मान पत्नी का खफा संसार हो जाए
VINOD CHAUHAN
मेरे राम तेरे राम
मेरे राम तेरे राम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"अह शब्द है मजेदार"
Dr. Kishan tandon kranti
लटक गयी डालियां
लटक गयी डालियां
ashok babu mahour
मेरा शहर
मेरा शहर
विजय कुमार अग्रवाल
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राम सिया की होली देख, अवध में हनुमंत लगे हर्षांने।
राकेश चौरसिया
बीते लम़्हे
बीते लम़्हे
Shyam Sundar Subramanian
*धूम मची है दुनिया-भर में, जन्मभूमि श्री राम की (गीत)*
*धूम मची है दुनिया-भर में, जन्मभूमि श्री राम की (गीत)*
Ravi Prakash
यदि आप सकारात्मक नजरिया रखते हैं और हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प
यदि आप सकारात्मक नजरिया रखते हैं और हमेशा अपना सर्वश्रेष्ठ प
पूर्वार्थ
मंजिल तक पहुँचने के लिए
मंजिल तक पहुँचने के लिए
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
“पतंग की डोर”
“पतंग की डोर”
DrLakshman Jha Parimal
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
अखंड साँसें प्रतीक हैं, उद्देश्य अभी शेष है।
Manisha Manjari
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें,
शेखर सिंह
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
इश्क खुदा का घर
इश्क खुदा का घर
Surinder blackpen
ईमानदारी
ईमानदारी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बुंदेली दोहा-
बुंदेली दोहा- "पैचान" (पहचान) भाग-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
इतनी जल्दी दुनियां की
इतनी जल्दी दुनियां की
नेताम आर सी
जानो आयी है होली
जानो आयी है होली
Satish Srijan
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
कवि दीपक बवेजा
" बंध खोले जाए मौसम "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
रात भर नींद भी नहीं आई
रात भर नींद भी नहीं आई
Shweta Soni
महबूबा से
महबूबा से
Shekhar Chandra Mitra
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
ہر طرف رنج ہے، آلام ہے، تنہائی ہے
ہر طرف رنج ہے، آلام ہے، تنہائی ہے
अरशद रसूल बदायूंनी
जय माता दी 🙏
जय माता दी 🙏
Anil Mishra Prahari
Loading...