Oct 3, 2016 · 1 min read

फौजी की बीवी …..दे दो वक्त को मात

क्या हुआ जो बिछड़ गई तुम
क्या हुआ जो बिखर गई तुम
क्या हुआ जो छूटा पति का साथ
वो शहीद सरहद पे हो गए
दे दुश्मन को मात ..
उठो अपनी शक्ति लगा दो
दे दो वक्त को मात !
क्या आज भी अबला हो तुम ??
अनपढ़ और निर्बल हो तुम ???

ग्यान का भण्डार हो तुम
शक्ति का पर्याय हो तुम
खुद पति को भेज सरहद
श्रद्धा की तो पात्र तुम हो

अश्क पर पहरा बिठा दो
नीर पर कब्जा जमा लो

शक्ति संचित करके अपनी
एक कदम फिर से बढ़ा लो
जिंदगी के पथ मे विजया
फिर से अपना हक जमा लो
ओज का परचम फहरा दो
फिर से अपना हक जमा लो

सरहद पे शहीद फौजी की बीवियों को समर्पित
नीरा रानी

362 Views
You may also like:
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
खेत
Buddha Prakash
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
कला के बिना जीवन सुना ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
ये माला के जंगल
Rita Singh
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
'बेदर्दी'
Godambari Negi
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जबसे मुहब्बतों के तरफ़दार......
अश्क चिरैयाकोटी
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H.
रसीला आम
Buddha Prakash
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:35
AJAY AMITABH SUMAN
मातृ रूप
श्री रमण
Loading...