Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Sep 30, 2016 · 1 min read

देश भक्ति ग़ज़ल

221 1222 221 1222

ये खून खराबा अब स्वीकार नहीं होगा
गर वार किया तुमने इंकार नहीं होगा

ये बंद करो नाटक जो खेल रहे हो तुम
आतंक तुम्हारा ये स्वीकार नहीं होगा

वो वार करेंगे हम ये पाक ज़रा सुन ले
देखा कभी तूने ऐसी मार नहीं होगा

जब जान गवाई है इस देश पे वीरों ने
बलिदान शहीदों का बेकार नहीं होगा

अब बात नहीं करना तुम पाक लड़ाई की
गर वार किया हमने अवतार नहीं होगा

धोखे से छला तुमने सोये हुए शेरों को
इक बार हुआ जो भी हर बार नहीं होगा

तुम एक को मारोगे हम चार गिरायेगें
हम लाश बिछा देंगे, संसार नहीं होगा

तुम प्यार से गर मांगो हम खीर तुम्हें देंगे
कश्मीर अगर मांगो स्वीकार नहीं होगा

बी0 आर0 महंत

1 Like · 11237 Views
You may also like:
मातृभाषा हिंदी
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
हनुमान जयंती पर कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
चिट्ठी का जमाना और अध्यापक
Mahender Singh Hans
उम्मीद पर है जिन्दगी
Anamika Singh
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
When I missed you.
Taj Mohammad
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
जग
AMRESH KUMAR VERMA
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
श्री अग्रसेन भागवत ः पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
हिन्दी दोहे विषय- नास्तिक (राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️क्रांतिसूर्य✍️
"अशांत" शेखर
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
परिंदों सा।
Taj Mohammad
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
ईमानदारी
AMRESH KUMAR VERMA
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चमचागिरी
सूर्यकांत द्विवेदी
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
फूल की महक
DESH RAJ
मेरे कच्चे मकान की खपरैल
Umesh Kumar Sharma
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...