Oct 3, 2016 · 1 min read

देश प्रेम

करने दो हुंकार अब,बस मातृभूमि का सत्कार अब
बजने दो मृदंग,कर दो संखनाद अब,
भरो कुछ ऐसा ही दम्भ,कण कण में दिखे देश प्रेम का रंग,
चूल्हे हिले,भूचाल मानो,सर्वनाश की आहट पहचानो,
जीना सीखो और जीने दो कही छिंड जाये न धर्म-पाप की जंग ll

मृदुल चंद्र श्रीवास्तव

206 Views
You may also like:
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गृहणी का बुद्धत्व
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीने की चाहत है सीने में
Krishan Singh
💐 निगोड़ी बिजली 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
तेरे दिल में कोई और है
Ram Krishan Rastogi
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
सबसे बड़ा सवाल मुँहवे ताकत रहे
आकाश महेशपुरी
शिव स्तुति
अभिनव मिश्र अदम्य
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
पिता
Deepali Kalra
श्रीयुत अटलबिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता
Shankar J aanjna
एक पल,विविध आयाम..!
मनोज कर्ण
लत...
Sapna K S
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
दलीलें झूठी हो सकतीं हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
केंचुआ
Buddha Prakash
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]
Anamika Singh
हमने प्यार को छोड़ दिया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
*"पिता"*
Shashi kala vyas
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
Loading...