Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2023 · 1 min read

देश और जनता~

देश और जनता~

ये सच है कि राष्ट्र है तो हम हैं पर यह भी सच है कि हम हैं तो ही राष्ट्र है।

दिनेश एल० “जैहिंद”

1 Like · 233 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
रमेशराज की 3 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
क्यूँ करते हो तुम हम से हिसाब किताब......
क्यूँ करते हो तुम हम से हिसाब किताब......
shabina. Naaz
अजदहा बनके आया मोबाइल
अजदहा बनके आया मोबाइल
Anis Shah
असली नकली
असली नकली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिसने सिखली अदा गम मे मुस्कुराने की.!!
जिसने सिखली अदा गम मे मुस्कुराने की.!!
शेखर सिंह
आजाद पंछी
आजाद पंछी
Ritu Asooja
👍कमाल👍
👍कमाल👍
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क़ में
इश्क़ में
हिमांशु Kulshrestha
Please Help Me...
Please Help Me...
Srishty Bansal
खुद पर यकीन,
खुद पर यकीन,
manjula chauhan
उदर क्षुधा
उदर क्षुधा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Neelam Sharma
2879.*पूर्णिका*
2879.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
तुमको खोकर इस तरहां यहाँ
gurudeenverma198
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
Manishi Sinha
क़दर करके क़दर हासिल हुआ करती ज़माने में
क़दर करके क़दर हासिल हुआ करती ज़माने में
आर.एस. 'प्रीतम'
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
कविता-आ रहे प्रभु राम अयोध्या 🙏
Madhuri Markandy
लौट  आते  नहीं  अगर  बुलाने   के   बाद
लौट आते नहीं अगर बुलाने के बाद
Anil Mishra Prahari
सरस रंग
सरस रंग
Punam Pande
सब छोड़ कर चले गए हमें दरकिनार कर के यहां
सब छोड़ कर चले गए हमें दरकिनार कर के यहां
VINOD CHAUHAN
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
"दीया और तूफान"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
Sukoon
जब तक हो तन में प्राण
जब तक हो तन में प्राण
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
न दिया धोखा न किया कपट,
न दिया धोखा न किया कपट,
Satish Srijan
हासिल नहीं है कुछ
हासिल नहीं है कुछ
Dr fauzia Naseem shad
शिक्षक हूँ  शिक्षक ही रहूँगा
शिक्षक हूँ शिक्षक ही रहूँगा
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...