Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 2 min read

देशभक्ति जनसेवा

देशभक्ति जनसेवा

लॉकडॉऊन के दौरान सोसल डिस्टेंसिंग का पालन करते शहर की झुग्गी झोपड़ी बस्ती में एक स्वयंसेवी संस्था के लोगों द्वारा नि:शुल्क पके हुए भोजन के पैकेट का वितरण किया जा रहा था। ऐसे कार्यों की निगरानी के लिए आए कलेक्टर साहब के सामने मास्क लगाए एक मजदूर हाथ जोड़ कर खड़ा हो गया।
कलेक्टर साहब ने पूछा, “क्या नाम है आपका और क्या करते हैं आप ?”
वह बोला, “साहब, मेरा नाम शंभूनाथ है। मैं चावड़ी मजदूर हूँ। खेती किसानी, भवन निर्माण और खाना बनाने का कार्य करता हूँ।”
कलेक्टर ने पूछा, “ओह, अभी लॉकडाऊन में तो आपका काम काजबंद है। आपको शासन की ओर से मिलने वाला अनाज का पैकेट तो मिल गया है न ?”
शंभू बोला, “हाँ साहब, मिल गया है। मेहरबानी है आप लोगों की। यहाँ तो कभी-कभी पका हुआ भोजन भी मिल जाता है।”
कलेक्टर ने कहा, “ठीक है। फिलहाल तो आप लोग घर में ही रहिए। यह सबके हित में है। हम आप लोगों की हर संभव मदद करेंगे। आपको किसी भी प्रकार से चिंतित होने की जरुरत नहीं है।”
शंभू बोला, “साहब, इस संकट की घड़ी में आप सब लोग तो देशहित में अपना-अपना योगदान दे ही रहे हैं। मैं भी अपने देश के लिए कुछ सकारात्मक कार्य करना चाहता हूँ।”
कलेक्टर ने आश्चर्यचकित हो पूछा, “क्या करना चाहते हैं आप ?”
शंभू ने कहा, “साहब, मैं खाना अच्छा बना लेता हूँ। यदि आप चाहें, तो जरूरतमंद लोगों के लिए जहाँ भोजन पकाया जा रहा है, वहाँ मुझे भी काम करने की अनुमति दे दीजिए या फिर एक बड़ा-सा फर्राटा झाड़ू देकर इस मुहल्ले की साफ-सफाई करने की अनुमति दे दीजिए। घर में खाली बैठना अच्छा नहीं लग रहा है।”
कलेक्टर साहब ने शंभू की भावनाओं का सम्मान करते हुए तत्काल उसे एक स्वयंसेवी संस्था के लिए भोजन बनाने के कार्य में सहयोग के लिए संलग्न कर दिया।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

1 Like · 338 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गाथा बच्चा बच्चा गाता है
गाथा बच्चा बच्चा गाता है
Harminder Kaur
सागर बोला सुन ज़रा, मैं नदिया का पीर
सागर बोला सुन ज़रा, मैं नदिया का पीर
Suryakant Dwivedi
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
वो नेमतों की अदाबत है ज़माने की गुलाम है ।
Phool gufran
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Surinder blackpen
हकीकत उनमें नहीं कुछ
हकीकत उनमें नहीं कुछ
gurudeenverma198
2283.🌷खून बोलता है 🌷
2283.🌷खून बोलता है 🌷
Dr.Khedu Bharti
जब हम छोटे से बच्चे थे।
जब हम छोटे से बच्चे थे।
लक्ष्मी सिंह
दर्पण
दर्पण
Kanchan verma
बेटा
बेटा
Neeraj Agarwal
बंदे को पता होता कि जेल से जारी आदेश मीडियाई सुर्खी व प्रेस
बंदे को पता होता कि जेल से जारी आदेश मीडियाई सुर्खी व प्रेस
*Author प्रणय प्रभात*
गुलों पर छा गई है फिर नई रंगत
गुलों पर छा गई है फिर नई रंगत "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अपने पुस्तक के प्रकाशन पर --
अपने पुस्तक के प्रकाशन पर --
Shweta Soni
*कभी बरसात है (घनाक्षरी)*
*कभी बरसात है (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
श्री हरि भक्त ध्रुव
श्री हरि भक्त ध्रुव
जगदीश लववंशी
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
और प्रतीक्षा सही न जाये
और प्रतीक्षा सही न जाये
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
कब तक बरसेंगी लाठियां
कब तक बरसेंगी लाठियां
Shekhar Chandra Mitra
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चल मनवा चलें.....!!
चल मनवा चलें.....!!
Kanchan Khanna
ज़िंदगी की उलझन;
ज़िंदगी की उलझन;
शोभा कुमारी
युवा कवि नरेन्द्र वाल्मीकि की समाज को प्रेरित करने वाली कविता
युवा कवि नरेन्द्र वाल्मीकि की समाज को प्रेरित करने वाली कविता
Dr. Narendra Valmiki
"हर कोई अपने होते नही"
Yogendra Chaturwedi
हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
Ranjeet kumar patre
परिवार के लिए
परिवार के लिए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैं तो महज संघर्ष हूँ
मैं तो महज संघर्ष हूँ
VINOD CHAUHAN
आत्मा की आवाज
आत्मा की आवाज
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
💐प्रेम कौतुक-97💐
💐प्रेम कौतुक-97💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
अंग प्रदर्शन करने वाले जितने भी कलाकार है उनके चरित्र का अस्
Rj Anand Prajapati
* हिन्दी को ही *
* हिन्दी को ही *
surenderpal vaidya
करता रहूँ मै भी दीन दुखियों की सेवा।
करता रहूँ मै भी दीन दुखियों की सेवा।
Buddha Prakash
Loading...