Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

देव दीपावली

आज देव दीपावली,लाई खुशी हजार ।
दीपों की लड़ियाँ सजी, रौशन है घर-बार।।

जग-मग कर चमके जगत, दूर अँधेरा आज।
दीपों का उत्सव मना, करते सब शुभ काज।।
फूलों रंगों से खुले, रंगोली का राज़।
रचती है बहु- बेटियाँ, करती खुद पर नाज़ ।।
फूल पत्तियों से सजे, तोरण लटके द्वार।
आज देव दीपावली,लाई खुशी हजार ।।

बरस रही लक्ष्मी कृपा,शुभ दिन मंगल योग।
लड्डू पेड़े बन रहे, खील बताशे भोग।।
भक्ति भाव से प्रार्थना, पूजा करते लोग।
ऋद्धि सिद्धि घर में बसे, तन मन रहे निरोग।।
बच्चों की किलकारियां, मस्ती की बौछार।
आज देव दीपावली,लाई खुशी हजार।।

मना पटाखों के बिना, हरा भरा त्यौहार।
अगली पीढ़ी साँस ले, चुभे न कोई खार ।।
द्वेष घृणा को दूर कर,बाटें सबको प्यार।।
हर घर में दीपक जले, मिले सुखद उपहार।।
ज्ञान दीप जलती रहे, ज्योतिर्मय संसार ।
आज देव दीपावली,लाई खुशी हजार ।।
-वेधा सिंह

Language: Hindi
Tag: गीत
58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सियासत का सेंसेक्स"
*Author प्रणय प्रभात*
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
अच्छी थी पगडंडी अपनी।सड़कों पर तो जाम बहुत है।।
अच्छी थी पगडंडी अपनी।सड़कों पर तो जाम बहुत है।।
पूर्वार्थ
आग लगाते लोग
आग लगाते लोग
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
3150.*पूर्णिका*
3150.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चोट शब्द की न जब सही जाए
चोट शब्द की न जब सही जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा लिखित पुस्तक
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा लिखित पुस्तक "करीमा" का ब्रज भाषा में अनुवाद*
Ravi Prakash
नफरत दिलों की मिटाने, आती है यह होली
नफरत दिलों की मिटाने, आती है यह होली
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काश ! ! !
काश ! ! !
Shaily
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
रोजी रोटी के क्या दाने
रोजी रोटी के क्या दाने
AJAY AMITABH SUMAN
जीवन संध्या में
जीवन संध्या में
Shweta Soni
* मायने शहर के *
* मायने शहर के *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे
हुऐ बर्बाद हम तो आज कल आबाद तो होंगे
Anand Sharma
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
श्याम सिंह बिष्ट
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
सारे  ज़माने  बीत  गये
सारे ज़माने बीत गये
shabina. Naaz
सूरज दादा ड्यूटी पर
सूरज दादा ड्यूटी पर
डॉ. शिव लहरी
कहते हैं,
कहते हैं,
Dhriti Mishra
भाग्य - कर्म
भाग्य - कर्म
Buddha Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
रोमांटिक रिबेल शायर
रोमांटिक रिबेल शायर
Shekhar Chandra Mitra
कल हमारे साथ जो थे
कल हमारे साथ जो थे
ruby kumari
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
है धरा पर पाप का हर अभिश्राप बाकी!
Bodhisatva kastooriya
बोध
बोध
Dr.Pratibha Prakash
सावरकर ने लिखा 1857 की क्रान्ति का इतिहास
सावरकर ने लिखा 1857 की क्रान्ति का इतिहास
कवि रमेशराज
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
Priya princess panwar
बचपन और पचपन
बचपन और पचपन
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...