Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2023 · 1 min read

देर हो जाती है अकसर

अक्सर देर हो जाती है,
कह नहीं पाते हम कभी कभी
दिल अपने के जज्बात।।

कभी मिलते नहीं अल्फाज़,
कभी साथ नहीं अहसास
कभी वक्त कर जाये घात।।

आंसू पलकों पर जो ठहरे,
सोचों पर लगे हो‌ पहरे,
कभी मुश्किल हो हालात।।

तो::::
अक्सर देर हो जाती है।।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
Shivkumar barman
I don't listen the people
I don't listen the people
VINOD CHAUHAN
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
'अशांत' शेखर
इजहार ए इश्क
इजहार ए इश्क
साहित्य गौरव
21-- 🌸 और वह? 🌸
21-- 🌸 और वह? 🌸
Mahima shukla
कानून में हाँफने की सजा( हास्य व्यंग्य)
कानून में हाँफने की सजा( हास्य व्यंग्य)
Ravi Prakash
खुला खत नारियों के नाम
खुला खत नारियों के नाम
Dr. Kishan tandon kranti
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Mamta Rani
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
कृष्णकांत गुर्जर
वादे करके शपथें खा के
वादे करके शपथें खा के
Dhirendra Singh
उसकी सूरत में उलझे हैं नैना मेरे।
उसकी सूरत में उलझे हैं नैना मेरे।
Madhuri mahakash
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
नसीबों का मुकद्दर पर अब कोई राज़ तो होगा ।
Phool gufran
अर्थ शब्दों के. (कविता)
अर्थ शब्दों के. (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
सिर्फ तुम्हारे खातिर
सिर्फ तुम्हारे खातिर
gurudeenverma198
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
जिसकी तस्दीक चाँद करता है
Shweta Soni
तुम हमारा हो ख़्वाब लिख देंगे
तुम हमारा हो ख़्वाब लिख देंगे
Dr Archana Gupta
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
हिंदी की भविष्यत्काल की मुख्य क्रिया में हमेशा ऊँगा /ऊँगी (य
हिंदी की भविष्यत्काल की मुख्य क्रिया में हमेशा ऊँगा /ऊँगी (य
कुमार अविनाश 'केसर'
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है
फिर से जीने की एक उम्मीद जगी है "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2548.पूर्णिका
2548.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मौज-मस्ती
मौज-मस्ती
Vandna Thakur
इश्क में आजाद कर दिया
इश्क में आजाद कर दिया
Dr. Mulla Adam Ali
मैं ढूंढता हूं जिसे
मैं ढूंढता हूं जिसे
Surinder blackpen
कलियों  से बनते फूल हैँ
कलियों से बनते फूल हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
प्राणवल्लभा 2
प्राणवल्लभा 2
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
गीत गाऊ
गीत गाऊ
Kushal Patel
सेल्फी जेनेरेशन
सेल्फी जेनेरेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*** अहसास...!!! ***
*** अहसास...!!! ***
VEDANTA PATEL
Loading...