Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2023 · 1 min read

देखिए खूबसूरत हुई भोर है।

देखिए खूबसूरत हुई भोर है।
हर दिशा का खिला जा रहा छोर है।
फूल चारों तरफ मुस्कुराने लगे।
खुशनुमा सा समय अब सभी ओर है।
~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ११/११/२०२३

1 Like · 1 Comment · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
इतने दिनों बाद आज मुलाकात हुईं,
Stuti tiwari
*अहं ब्रह्म अस्मि*
*अहं ब्रह्म अस्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अपना अपना कर्म
अपना अपना कर्म
Mangilal 713
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अगर हमारा सुख शान्ति का आधार पदार्थगत है
अगर हमारा सुख शान्ति का आधार पदार्थगत है
Pankaj Kushwaha
Bundeli doha-fadali
Bundeli doha-fadali
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मधुर व्यवहार
मधुर व्यवहार
Paras Nath Jha
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
हाई स्कूल के मेंढक (छोटी कहानी)
Ravi Prakash
"जी लो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
कब तक कौन रहेगा साथी
कब तक कौन रहेगा साथी
Ramswaroop Dinkar
आम पर बौरें लगते ही उसकी महक से खींची चली आकर कोयले मीठे स्व
आम पर बौरें लगते ही उसकी महक से खींची चली आकर कोयले मीठे स्व
Rj Anand Prajapati
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
Pratibha Pandey
छलते हैं क्यों आजकल,
छलते हैं क्यों आजकल,
sushil sarna
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
दिखावा कि कुछ हुआ ही नहीं
दिखावा कि कुछ हुआ ही नहीं
पूर्वार्थ
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
जीवन की बेल पर, सभी फल मीठे नहीं होते
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
.........
.........
शेखर सिंह
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
shabina. Naaz
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
🙏श्याम 🙏
🙏श्याम 🙏
Vandna thakur
मंहगाई  को वश में जो शासक
मंहगाई को वश में जो शासक
DrLakshman Jha Parimal
Time
Time
Aisha Mohan
रक्षक या भक्षक
रक्षक या भक्षक
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
बेटा बेटी है एक समान,
बेटा बेटी है एक समान,
Rituraj shivem verma
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
3283.*पूर्णिका*
3283.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...