देखते है कि आपका मुँह खुलेगा भी या नहीं

होली के अबसर पर
पानी की बर्बादी की बात करने बाले
शिवरात्रि पर शिव पर दूध अर्पित करने को
कुपोषण से जोड़ने बाले
और दूध की कमी का रोने बाले
प्रकाश उत्सब पर पर्याबरण की चिंता करने बाले
तथाकथित बुद्धिजीबी लोग
कल बकरीद आने बाली है
हम भी
आपके मुख से
जीब हत्या और
सही क़ुरबानी के मायने
क्या हैं
इस पर आपके बिचार जानने को इच्छुक हैं
देखते है कि
आपका मुँह खुलेगा भी या नहीं

मदन मोहन सक्सेना

3 Comments · 142 Views
You may also like:
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
पिता
Manisha Manjari
एकाकीपन
Rekha Drolia
इशारो ही इशारो से...😊👌
N.ksahu0007@writer
खामोशियाँ
अंजनीत निज्जर
क्या कोई मुझे भी बताएगा
Krishan Singh
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
कविराज
Buddha Prakash
If we could be together again...
Abhineet Mittal
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
करते रहो सितम।
Taj Mohammad
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हर रोज योग करो
Krishan Singh
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
ग़ज़ल
Anis Shah
"ममता" (तीन कुण्डलिया छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
🌻🌻🌸"इतना क्यों बहका रहे हो,अपने अन्दाज पर"🌻🌻🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H.
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
चूँ-चूँ चूँ-चूँ आयी चिड़िया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...