Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2023 · 1 min read

दृढ़ आत्मबल की दरकार

साहसी कदम उठाने को
दृढ़ आत्मबल की दरकार
निश्छल आत्मा ही धारण
करे ये पुण्य बल अपरंपार
अब दुनिया में व्यापक छल
फरेब और धोखे का व्यापार
दूर दूर तक कहीं नजर नहीं
आता मानवता का पैरोकार
हर एक महत्वपूर्ण किरदार में
दिखावे की चाह भरी बेशुमार
खुद की श्रेष्ठता की सनक में
वो सच से मुंह फेरते बार बार
रेत में गर्दन छिपाने से कहां
कब बची शुतुरमुर्ग की जान
इस सत्य तथ्य को जानकर
भी सत्ताधीश रहते हैं बदगुमां
हे ईश्वर मेरे देश के राजनेताओं
को दीजिए सन्मति का दान
साहसी, विवेकपूर्ण नीतियां
बनाकर करें जन कल्याण

Language: Hindi
174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
surenderpal vaidya
कर पुस्तक से मित्रता,
कर पुस्तक से मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
■ बस, एक ही अनुरोध...
■ बस, एक ही अनुरोध...
*Author प्रणय प्रभात*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ओम के दोहे
ओम के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
* का बा v /s बा बा *
* का बा v /s बा बा *
Mukta Rashmi
हमको तंहाई का
हमको तंहाई का
Dr fauzia Naseem shad
बाल एवं हास्य कविता : मुर्गा टीवी लाया है।
बाल एवं हास्य कविता : मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
*वोट हमें बनवाना है।*
*वोट हमें बनवाना है।*
Dushyant Kumar
कविता
कविता
Neelam Sharma
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
*संवेदनाओं का अन्तर्घट*
Manishi Sinha
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
सांवली हो इसलिए सुंदर हो
Aman Kumar Holy
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
Dr Archana Gupta
अरबपतियों की सूची बेलगाम
अरबपतियों की सूची बेलगाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ये कटेगा
ये कटेगा
शेखर सिंह
इश्क में हमको नहीं, वो रास आते हैं।
इश्क में हमको नहीं, वो रास आते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
नेताम आर सी
*अशोक कुमार अग्रवाल : स्वच्छता अभियान जिनका मिशन बन गया*
*अशोक कुमार अग्रवाल : स्वच्छता अभियान जिनका मिशन बन गया*
Ravi Prakash
"पहचान"
Dr. Kishan tandon kranti
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" रचना शमशान वैराग्य -  Fractional Detachment  
Atul "Krishn"
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
अपने घर में हूँ मैं बे मकां की तरह मेरी हालत है उर्दू ज़बां की की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
नाम मौहब्बत का लेकर मेरी
नाम मौहब्बत का लेकर मेरी
Phool gufran
तुझे पन्नों में उतार कर
तुझे पन्नों में उतार कर
Seema gupta,Alwar
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
मज़हब नहीं सिखता बैर
मज़हब नहीं सिखता बैर
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
निर्लज्ज चरित्र का स्वामी वो, सम्मान पर आँख उठा रहा।
निर्लज्ज चरित्र का स्वामी वो, सम्मान पर आँख उठा रहा।
Manisha Manjari
Loading...