Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Aug 2023 · 1 min read

दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही

दूसरों का दर्द महसूस करने वाला इंसान ही
अशरफ- उल् मखलुकात है……….shabinaZ

162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
संजय सनातन की कविता संग्रह गुल्लक
संजय सनातन की कविता संग्रह गुल्लक
Paras Nath Jha
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ-बाप का किया सब भूल गए
माँ-बाप का किया सब भूल गए
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हज़ारों साल
हज़ारों साल
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
अंबेडकर की मूर्ति तोड़े जाने पर
अंबेडकर की मूर्ति तोड़े जाने पर
Shekhar Chandra Mitra
युवा दिवस
युवा दिवस
Tushar Jagawat
बुढ़ाते बालों के पक्ष में / MUSAFIR BAITHA
बुढ़ाते बालों के पक्ष में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
"हूक"
Dr. Kishan tandon kranti
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
उसको भी प्यार की ज़रूरत है
Aadarsh Dubey
वास्तविक प्रकाशक
वास्तविक प्रकाशक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
शिखर पर पहुंचेगा तू
शिखर पर पहुंचेगा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
Manisha Manjari
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
मुस्कुराती आंखों ने उदासी ओढ़ ली है
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
3266.*पूर्णिका*
3266.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
मैं हिंदी में इस लिए बात करता हूं क्योंकि मेरी भाषा ही मेरे
Rj Anand Prajapati
करता रहूँ मै भी दीन दुखियों की सेवा।
करता रहूँ मै भी दीन दुखियों की सेवा।
Buddha Prakash
"सुखी हुई पत्ती"
Pushpraj Anant
My Expressions
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
Jindagi ka kya bharosa,
Jindagi ka kya bharosa,
Sakshi Tripathi
*तितली आई 【बाल कविता】*
*तितली आई 【बाल कविता】*
Ravi Prakash
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
अक़्सर बूढ़े शज़र को परिंदे छोड़ जाते है
अक़्सर बूढ़े शज़र को परिंदे छोड़ जाते है
'अशांत' शेखर
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वक़्त की फ़ितरत को
वक़्त की फ़ितरत को
Dr fauzia Naseem shad
कैदी
कैदी
Tarkeshwari 'sudhi'
Loading...