Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों

दूर जाना था मुझसे तो करीब लाया क्यों
हर रिश्ता दिल से निभाया क्यों
मेरी यादों को मिटाने लगा है तू इस कदर
कि आजकल तू मुझे जानता ही नहीं

62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
तू कहीं दूर भी मुस्करा दे अगर,
Satish Srijan
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
दीवारें ऊँचीं हुईं, आँगन पर वीरान ।
Arvind trivedi
इस धरती पर
इस धरती पर
surenderpal vaidya
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
डार्क वेब और इसके संभावित खतरे
Shyam Sundar Subramanian
अगर हौसला हो तो फिर कब ख्वाब अधूरा होता है,
अगर हौसला हो तो फिर कब ख्वाब अधूरा होता है,
Shweta Soni
मोरे मन-मंदिर....।
मोरे मन-मंदिर....।
Kanchan Khanna
"प्रेम कर तू"
Dr. Kishan tandon kranti
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
डिजेन्द्र कुर्रे
. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
. inRaaton Ko Bhi Gajab Ka Pyar Ho Gaya Hai Mujhse
Ankita Patel
रिश्ते प्यार के
रिश्ते प्यार के
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
जिंदगी की खोज
जिंदगी की खोज
CA Amit Kumar
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
एक छोटी सी रचना आपसी जेष्ठ श्रेष्ठ बंधुओं के सम्मुख
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
रखे हों पास में लड्डू, न ललचाए मगर रसना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
उसने किरदार ठीक से नहीं निभाया अपना
उसने किरदार ठीक से नहीं निभाया अपना
कवि दीपक बवेजा
पराक्रम दिवस
पराक्रम दिवस
Bodhisatva kastooriya
💐प्रेम कौतुक-426💐
💐प्रेम कौतुक-426💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपना मन
अपना मन
Harish Chandra Pande
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हमको तू ऐसे नहीं भूला, बसकर तू परदेश में
हमको तू ऐसे नहीं भूला, बसकर तू परदेश में
gurudeenverma198
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
Naushaba Suriya
#लघुकथा :--
#लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
*सात शेर*
*सात शेर*
Ravi Prakash
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
चार दिनों की जिंदगी है, यूँ हीं गुज़र के रह जानी है...!!
Ravi Betulwala
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
जीवन की विफलता
जीवन की विफलता
Dr fauzia Naseem shad
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
Atul "Krishn"
दुनिया सारी मेरी माँ है
दुनिया सारी मेरी माँ है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चलो प्रिये तुमको मैं संगीत के क्षण ले चलूं....!
चलो प्रिये तुमको मैं संगीत के क्षण ले चलूं....!
singh kunwar sarvendra vikram
बस्ता
बस्ता
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
2755. *पूर्णिका*
2755. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...