Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

दूर कहीं जब मीत पुकारे

दूर कहीं से मीत पुकारे
जनम जनम की प्रीत पुकरे
भीना भीना महका महका
खामोश मगर कुछ बहका बहका
साँसो का हर.गीत पुकारे
इठलाती कलियों के संग
रुनझुन करती बूँदों के संग
पाजेबी संगीत पुकारे
मार न डाले विरहन कातिल
अब तो सफर से लौट मुसाफिर
तुझको तेरा मनमीत पुकारे
(स्व रचित मौलिक रचना)
M.Tiwari”Ayan

Language: Hindi
102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"सत्य"
Dr. Kishan tandon kranti
*विश्वामित्र (कुंडलिया)*
*विश्वामित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
वैलेंटाइन डे पर कविता
वैलेंटाइन डे पर कविता
Shekhar Chandra Mitra
उतरन
उतरन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
धूल से ही उत्सव हैं,
धूल से ही उत्सव हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नए दौर का भारत
नए दौर का भारत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
दोहा- सरस्वती
दोहा- सरस्वती
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
Dushyant Kumar
रात स्वप्न में दादी आई।
रात स्वप्न में दादी आई।
Vedha Singh
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
जरूरी नहीं राहें पहुँचेगी सारी,
Satish Srijan
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
छह दिसबंर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
#बाल_दिवस_से_क्या_होगा?
#बाल_दिवस_से_क्या_होगा?
*Author प्रणय प्रभात*
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
Rj Anand Prajapati
इंसान अपनी ही आदतों का गुलाम है।
इंसान अपनी ही आदतों का गुलाम है।
Sangeeta Beniwal
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
💐प्रेम कौतुक-517💐
💐प्रेम कौतुक-517💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
3256.*पूर्णिका*
3256.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
सत्साहित्य सुरुचि उपजाता, दूर भगाता है अज्ञान।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
सत्य साधना -हायकु मुक्तक
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आहिस्ता चल
आहिस्ता चल
Dr.Priya Soni Khare
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
का कहीं रहन अपना सास के
का कहीं रहन अपना सास के
नूरफातिमा खातून नूरी
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
हे पिता ! जबसे तुम चले गए ...( पिता दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
आत्मा की आवाज
आत्मा की आवाज
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेटी
बेटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Loading...