Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2020 · 2 min read

दूध और चाय की प्याली

दूध और चाय की प्याली
********************

दूध और चाय की प्याली
जंग छिड़ गई बहुत भारी
दूध की प्याली यूँ बोली
कान कर सुन चाय प्याली
रंग में काली कलोटी ही तू
चूल्हे पर सड़ के सड़ती तू
लोगों के नर्म दिल जलाती
और लाल जिह्वा है सड़ाती
जो भी ले लेता है तेरा घूंट
तन अदर तक जलाता घूंट
जो तू अगर ठंडी हो जाती
धरती पर हो फैंकी जाती
मैं देखो कितनी गोरी गोरी
कितनी ज्यादा हूँ गुणकारी
रहती हूँ खूब सेहत बनाती
सभी का हूँ दिमाग बढाती
काहे को तुम हो अकड़ती
मेरे बिन तुम नहीं हो बनती
सभी खरते हैं मेरा गुणगान
सुन लो तुम चाय बदनाम
ये सुन कर चाय यूँ भड़की
सुनने को हो जाओ तकड़ी
बेशक चाहे तुम गोरी गोरी
तुम तो हो सुस्ती की बोरी
जो भी तुम्हे जब पी लेता
आलस्य निज में भर लेता
अमीर तक तुम हो सीमित
गरीबों को ना मिलती नित
सब की पहुंच से हो बाहर
काहे को उगलती हो जहर
पानी में जब जाती है मिल
लोगों का दुखाती हो दिल
नित महंगी होती जाती हो
काहे को तुम इठलाती हो
बच्चा,बूढ़ा या फिर बीमार
मजबूरी में तुम्हे पीता यार
मत कर खुद पर तू गुमान
सुन लो तुम दूध हो नादान
मैं हूँ जन जन तक मिलती
किसी को नाराज ना करती
नर ह़ो चाहे हो कोई स्त्री
मजदूर हो चाहे हो मिस्त्री
करती रहती सभी गतिशील
मुझे पी कर होते क्रियाशील
तुम तो अपनों तक है रहती
मैं आए गए का मान बढ़ाती
हर दर तक जाती हूँ पहुंच
रंक,राजाऔर हर जन बीच
सुन ले तुम मेरी प्यारी बहना
गरीब का मैं मौके का गहना
तुम तो रहे अमीर तक रहना
जानती जन जन को हूँ बहना
फिर भी सदा रहती हूँ शान्त
किसी प्रकाश का नहीं भ्रान्त
जो भी जन मुझे है पी जाए
रहे रहता सदा मेरा गुण गाए
पल में मैं जाऊँ सब को मिल
जलाती नहीं दिल तिल तिल
सुखविन्द्र सभी के हूँ करीब
अमीर हो या चाहे हो गरीब

सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)

Language: Hindi
2 Comments · 578 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"जवाब"
Dr. Kishan tandon kranti
J
J
Jay Dewangan
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
विकलांगता : नहीं एक अभिशाप
Dr. Upasana Pandey
*योग शब्द का अर्थ ध्यान में, निराकार को पाना ( गीत)*
*योग शब्द का अर्थ ध्यान में, निराकार को पाना ( गीत)*
Ravi Prakash
ज्ञात हो
ज्ञात हो
Dr fauzia Naseem shad
प्रकृति
प्रकृति
Monika Verma
ख्वाहिश
ख्वाहिश
Omee Bhargava
कितना लिखता जाऊँ ?
कितना लिखता जाऊँ ?
The_dk_poetry
20)”“गणतंत्र दिवस”
20)”“गणतंत्र दिवस”
Sapna Arora
अपात्रता और कार्तव्यहीनता ही मनुष्य को धार्मिक बनाती है।
अपात्रता और कार्तव्यहीनता ही मनुष्य को धार्मिक बनाती है।
Dr MusafiR BaithA
कान्हा तेरी मुरली है जादूभरी
कान्हा तेरी मुरली है जादूभरी
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
आनन ग्रंथ (फेसबुक)
Indu Singh
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
तन के लोभी सब यहाँ, मन का मिला न मीत ।
तन के लोभी सब यहाँ, मन का मिला न मीत ।
sushil sarna
नहीं-नहीं प्रिये
नहीं-नहीं प्रिये
Pratibha Pandey
कैसे कहूँ किसको कहूँ
कैसे कहूँ किसको कहूँ
DrLakshman Jha Parimal
विडंबना
विडंबना
Shyam Sundar Subramanian
तुमसे मैं एक बात कहूँ
तुमसे मैं एक बात कहूँ
gurudeenverma198
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
" यादों की शमा"
Pushpraj Anant
साथ
साथ
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
.....
.....
शेखर सिंह
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
स्वाधीनता संग्राम
स्वाधीनता संग्राम
Prakash Chandra
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Er.Navaneet R Shandily
कुली
कुली
Mukta Rashmi
2834. *पूर्णिका*
2834. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
प्रेम में डूबे रहो
प्रेम में डूबे रहो
Sangeeta Beniwal
Loading...