Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Aug 2023 · 2 min read

दुमका संस्मरण 2 ( सिनेमा हॉल )

डॉ लक्ष्मण झा परिमल
================
वैसे मेरा जन्म 1951 में दुमका में हो चुका था ! होश संभालते ही मैंने दुमका का एक मात्र सिनेमा हॉल को काफी करीब से देखा ! इस सिनेमा हॉल को “ज्ञानदा टॉकीज” कहते थे ! बताया जाता था कि यह हॉल बहुत पुराना हुआ करता था ! मेरे घर से यह बिल्कुल करीब था ! दुमका की आवादी बहुत कम थी ! ध्वनि प्रदूषण नहीं था ! इसलिए फिल्म शुरू होने से पहले गाने लाउड स्पीकर की सुनाई देती थी ! कभी -कभी तो फिल्म का संवाद भी सुनाई देता था !
उनदिनों मनोरंजन के साधनों में सिनेमा को काफी प्रभावी मना जाता था ! लोगों में शर्त लगती थी हारने पर सिनेमा दिखाना पड़ता था ! कोई अतिथि आ जाते थे तो उनको सिनेमा दिखलाकर मनोरंजन करना पड़ता था ! ड्रामा ,नाटक ,संगीत ,सांस्कृतिक कार्यक्रम ,नटुआ नाच ,मज़मा ,सर्कस ,खेल -कूद ,कव्वाली प्रतियोगिता , थिएटर ,जादू इत्यादि मनोरंजन के साधन के बावजूद सिनेमा का महत्व अलग ही था !
बॉक्स क्लास के एक रुपये , प्रथम क्लास के बारह आना ,सेकंड क्लास के आठ आना और थर्ड क्लास के चार आना के टिकट बड़े जद्दो जहद से लेना पड़ता था ! कभी -कभी मार भी हो जाती थी ! जो जीता वही सिकंदर ! जो नहीं देख पता उसे देखकर आने वाला को दूसरे को कहानी सुना देता था ! और इस तरह सबका मनोरंजन हो जाता था !
बाद में 1964 में दुधानी में दूसरा सिनेमा हॉल “सरोजिनी टॉकीज” खुल गया ! सरोजिनी टॉकीज बाद में “अमरचित्र मंदिर” कहलाने लगा ! जब नया सिनेमा हॉल बना तो उसका नाम “मिनी अमर” रख दिया गया !
अब ज्ञानदा टॉकीज नहीं रहा ! दुमका में अब सिर्फ “मिनी अमर” है ! आज प्रर्याप्त मनोरंजन की सुविधाएं उपलब्ध हैं ! इन परिवेशों में सिनेमा सिसक रहा है और हमारी सामाजिक व्यवस्था भी चरमरा रही है !
=================
डॉ लक्ष्मण झा” परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखण्ड
07.08.2023

Language: Hindi
102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बसंत बहार
बसंत बहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
प्रीत
प्रीत
Mahesh Tiwari 'Ayan'
तन्हा
तन्हा
अमित मिश्र
नीलेश
नीलेश
Dhriti Mishra
मुझसे  नज़रें  मिलाओगे  क्या ।
मुझसे नज़रें मिलाओगे क्या ।
Shah Alam Hindustani
समान आचार संहिता
समान आचार संहिता
Bodhisatva kastooriya
गुलाबों सी महक है तेरे इन लिबासों में,
गुलाबों सी महक है तेरे इन लिबासों में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
खींचो यश की लम्बी रेख।
खींचो यश की लम्बी रेख।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*मतदान*
*मतदान*
Shashi kala vyas
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
"चिन्ता का चक्र"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ
माँ
Harminder Kaur
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
Phool gufran
चुनौती हर हमको स्वीकार
चुनौती हर हमको स्वीकार
surenderpal vaidya
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मेरी तकलीफ़
मेरी तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
जाने कब पहुंचे तरक्की अब हमारे गांव में
जाने कब पहुंचे तरक्की अब हमारे गांव में
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
2662.*पूर्णिका*
2662.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अति वृष्टि
अति वृष्टि
लक्ष्मी सिंह
*हल्दी (बाल कविता)*
*हल्दी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जिन्दगी में फैंसले और फ़ासले सोच समझ कर कीजिएगा !!
जिन्दगी में फैंसले और फ़ासले सोच समझ कर कीजिएगा !!
Lokesh Sharma
समय का खेल
समय का खेल
Adha Deshwal
I KNOW ...
I KNOW ...
SURYA PRAKASH SHARMA
रमेशराज के देशभक्ति के बालगीत
रमेशराज के देशभक्ति के बालगीत
कवि रमेशराज
भाग्य निर्माता
भाग्य निर्माता
Shashi Mahajan
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
शेखर सिंह
वो भी तो ऐसे ही है
वो भी तो ऐसे ही है
gurudeenverma198
नव्य द्वीप
नव्य द्वीप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...